पंजाब चुनाव के लिए नए प्लान पर कांग्रेस कर रही काम, 25 फीसदी नए चेहरों को दे सकती है मौका

पंजाब में नई रणनीति अपनाना चाहती है कांग्रेस. (File pic)

Punjab Congress: कांग्रेस ने हाल ही में नवजोत सिंह सिद्धू को पंजाब कांग्रेस का प्रमुख बनाया है. साथ ही चार नए कार्यकारी प्रदेश अध्‍यक्ष भी बनाए हैं.

  • Share this:
    चंडीगढ़. पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी (Punjab Pradesh Congress Committee) में युवाओं और परिपक्‍व लोगों की भागीदारी सुनिश्चित कर पूर्व पार्टी अध्‍यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने एक स्पष्ट संदेश दिया है कि पंजाब में पार्टी 2022 में अनुभव और ताजगी के मिश्रण के साथ चुनावी समर (Punjab Assembly Elections) में उतरेगी. प्रदेश की पार्टी इकाईयों में अन्य नियुक्तियां भी इसी सोच के इर्द-गिर्द होंगी. एक रिपोर्ट के मुताबिक राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) के साथ पंजाब कांग्रेस में उथल-पुथल के बीच अगले विधानसभा चुनाव में कम से कम 25 फीसदी नए चेहरे मैदान में दिखाई दे सकते हैं. यह राज्य पार्टी इकाई के कई दिग्गजों के लिए राजनीतिक यात्रा के अंत की तरह हो सकती है.

    राहुल गांधी के करीबी माने जाने वाले कार्यकारी अध्यक्ष कुलजीत सिंह नागर अपने निर्वाचन क्षेत्र के लोगों के संपर्क में रहने के लिए जाने जाते हैं. वह पंजाब विश्वविद्यालय छात्र संघ का नेतृत्व करने के वर्षों के बाद पार्टी में शामिल हुए हैं. लोकसभा में कृषि विधेयकों के पारित होने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए नागरा ने पिछले साल सितंबर में विधायक का पद छोड़ दिया था. नागरा ने ट्वीट किया था, 'बीजेपी-अकाली सरकार द्वारा कृषि विधेयकों के पारित होने से गहरा दुख हुआ. मैं किसानों के समर्थन में फतेहगढ़ साहिब के विधायक पद से इस्तीफा देता हूं.'

    दूसरे कार्यकारी अध्यक्ष सुखविंदर सिंह को 'डैनी' के रूप में जाना जाता है, उन्होंने 2008 में एक युवा कांग्रेस कार्यक्रम में एक संबोधन के दौरान सरल तथ्यों के माध्यम से लोगों को समझाने की अपनी क्षमता के साथ राहुल गांधी का ध्यान खींचा था. उन्होंने 2005 से 2014 तक युवा कांग्रेस के उपाध्यक्ष के रूप में कार्य किया. राहुल ने उन्हें 2009 के लोकसभा चुनाव में टिकट दिलाया था. उन्होंने अपने पिता पूर्व कैबिनेट मंत्री सरदूल सिंह बंडाला के चुनाव में कामयाबी हासिल की. उन्होंने दो बार जंडियाला गुरु सीट का प्रतिनिधित्व किया. वह अपने लोगों के लिए आसान पहुंच के लिए जाने जाते हैं.

    तीसरे कार्यकारी अध्यक्ष पवन गोयल पंजाब के पूर्व खाद्य और आपूर्ति मंत्री भगवान दास के  पुत्र हैं. पवन गोयल अपने मृदुभाषी और शांत स्वभाव के लिए जाने जाते हैं. वह पहले जिला कांग्रेस के अध्यक्ष थे और वर्तमान में जिला योजना बोर्ड के अध्यक्ष हैं. उनके चार भाई-बहन हैं. 1987 में आतंकवादियों द्वारा अपने पिता की हत्या के बाद गोयल ने अपने पिता के राजनीतिक वंश की बागडोर संभाली थी.  इन्हें एक साफ प्रतिष्ठा प्राप्त है.

    लगातार तीन बार पंजाब विधानसभा के लिए चुने जाने के बाद कार्यकारी अध्यक्ष संगत सिंह गिलजियान हाल के दिनों तक पार्टी द्वारा नजरअंदाज किए जाने से परेशान थे. उन्होंने पंजाब भूमि उपयोग और अपशिष्ट बोर्ड के निदेशक के रूप में कार्य किया था और वंचितों की भलाई के लिए काम करने वाली विधानसभा समिति के सदस्य बने रहे. उन्होंने अपने करियर की शुरुआत अपने पैतृक गांव गिलजियान के सरपंच के तौर पर की थी. वह पेशे से कृषक और कमीशन एजेंट हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.