• Home
  • »
  • News
  • »
  • punjab
  • »
  • हेलीकॉप्टर क्रैश के 12 दिन बाद रणजीत सागर डैम से मिला लेफ्टिनेंट कर्नल शव

हेलीकॉप्टर क्रैश के 12 दिन बाद रणजीत सागर डैम से मिला लेफ्टिनेंट कर्नल शव

पंजाब स्थित पठानकोट की मामून छावनी  से 3 अगस्त को उड़ान भरने वाले हेलीकॉप्टर के रंजीत सागर डैम लेक  में दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद इसके पायलट और को-पायलट लापता हो गए थे.

पंजाब स्थित पठानकोट की मामून छावनी से 3 अगस्त को उड़ान भरने वाले हेलीकॉप्टर के रंजीत सागर डैम लेक में दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद इसके पायलट और को-पायलट लापता हो गए थे.

पंजाब स्थित पठानकोट की मामून छावनी से 3 अगस्त को उड़ान भरने वाले हेलीकॉप्टर के रंजीत सागर डैम लेक में दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद इसके पायलट और को-पायलट लापता हो गए थे.

  • Share this:

    चंडीगढ़. रंजीत सागर डैम (Ranjit Sagar dam) में क्रैश हुए हेलीकॉप्टर के पायलट्स में से एक लेफ्टिनेंट कर्नल अभीत सिंह बाठ (Lt Col SS Bhath ) का शव सेना ने ढ़ूंढ लिया है. लेफ्टिनेंट कर्नल अभीत सिंह बाठ अमृतसर के रहने वाले हैं. अपने पीछे वह पत्नी और दो बच्चों को छोड़ गए हैं. हालांकि को-पायलट कैप्टन जयंत जोशी (Capt Jayant Joshi) का अभी तक कुछ पता नहीं चला है.कर्नल बाठ के शव को एयरफोर्स के पठानकोट की मामून छावनी (Pathankot Mamoon cantonment) भिजवा दिया गया है. जबकि को-पायलट की तलाश अभी भी जारी है. सेना ने हादसे के करीब एक सप्ताह बाद पूरा सर्च ऑपरेशन अपने हाथ में ले लिया था और डैम साइट को चारों तरफ से सील कर दिया था.

    पठानकोट की मामून छावनी  से 3 अगस्त को उड़ान भरने वाले हेलीकॉप्टर के रंजीत सागर डैम लेक  में दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद इसके पायलट और को-पायलट लापता हो गए थे. जिसके बाद गोताखोरों के झील का चप्पा-चप्पा छान मारा था. थल सेना और नौसेना की संयुक्त टीमें पायलटों और मलबे वाले इलाके की तलाश में लगी हुई थीं.

    80 मीटर गहराई में ऑटोमेटिड इक्विपमेंट लगाया गया
    गौरतलब है कि 3 अगस्त को हेलिकॉप्टर अभ्यास उड़ान भरने के 20 मिनट बाद जम्मू के कठुआ के पास पलाही गांव में क्रैश हो गया था. जिस झील में हेलीकॉप्टर गिरा वह 85 स्क्वेयर किमी एरिया में फैली हुई है. झील का 60 फीसदी हिस्सा जम्मू-कश्मीर में और 40 फीसदी हिस्सा पंजाब में पड़ता है. झील की गहराई करीब 200 फीट है.

    एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक 4 दिन पहले दुर्घटनाग्रस्त हेलीकॉप्टर के मलबे का पता लगाने के लिए झील की 80 मीटर गहराई में ऑटोमेटिड इक्विपमेंट लगाया गया था. जो हेलिकॉप्टर के मलबे को तलाश करने में मदद कर सकता था लेकिन सेना और नौ सेना का यह प्रयास सफल नहीं रहा. इसके बाद सेना ने सबमैरिन को डैम में उतारा जिसके बाद बीते रविवार शाम लेफ्टिनेंट कर्नल अभीत सिंह बाठ का शव बरामद कर लिया गया. को-पायलट की तलाश अभी भी जारी है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज