लाइव टीवी

हॉस्पिटल ने नहीं भेजी एबुलेंस, रेहड़ी पर पिता का शव ले गया बेटा

भाषा
Updated: May 15, 2017, 11:00 AM IST
हॉस्पिटल ने नहीं भेजी एबुलेंस, रेहड़ी पर पिता का शव ले गया बेटा
File Photo

अस्पताल से शव के लिए एंबुलेंस उपलब्ध नहीं होने के बाद निजी वाहन से शव ले जाने के लिए 400 रुपए नहीं होने की वजह से एक व्यक्ति को अपने पिता का शव घर ले जाने के लिए रेहड़ी का सहारा लेना पड़ा.

  • Share this:
अस्पताल से शव के लिए एंबुलेंस उपलब्ध नहीं होने के बाद निजी वाहन से शव ले जाने के लिए 400 रुपए नहीं होने की वजह  से एक व्यक्ति को अपने पिता का शव घर ले जाने के लिए रेहड़ी का सहारा लेना पड़ा. यह घटना 11 मई की है, जब इलाज के लिए अस्पताल आए पूर्वी उत्तरप्रदेश के एक प्रवासी मजदूर लालजी की मौत हो गई.

लालजी के बेटे सर्बजीत भी मजदूर हैं. सूत्रों ने बताया कि उन्होंने शव घर ले जाने के लिए अस्पताल अधिकारियों से एंबुलेंस मुहैया कराने का आग्रह किया, लेकिन उन्हें बताया गया कि नियम के मुताबिक सरकारी अस्पताल शव ले जाने के लिए एंबुलेंस नहीं दे सकता.

हालांकि उन्होंने कहा कि अगर वे 400 रुपए दे देंगे तो एक एंबुलेंस उन्हें मुहैया कराई जा सकती है लेकिन पैसे नहीं होने की वजह से सर्बजीत ने मना कर दिया. इसके बाद सर्बजीत ने अस्पताल परिसर से अपने पिता का शव ले जाने के लिए एक रेहड़ी की व्यवस्था की और अस्पताल के बाहर 150 रुपये किराया एक ऑटो में दिया. इस बीच पंजाब सरकार ने लालजी के अंतिम संस्कार के लिए 7,000 रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान की.


देश और दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Jalandhar से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 15, 2017, 10:29 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...