होम /न्यूज /पंजाब /

लंपी स्किन बीमारी ने पंजाब में बढ़ाई मुश्किलें, अब तक 2 हजार से अधिक मवेशियों की हुई मौत

लंपी स्किन बीमारी ने पंजाब में बढ़ाई मुश्किलें, अब तक 2 हजार से अधिक मवेशियों की हुई मौत

गाय और भैंस मुख्य रूप से लंपी त्वचा रोग की चपेट में आती हैं. (फाइल फोटो)

गाय और भैंस मुख्य रूप से लंपी त्वचा रोग की चपेट में आती हैं. (फाइल फोटो)

Cow, Disease, Lumpy Skin Disease: मुख्यमंत्री भगवंत मान ने बीमारी के प्रसार की निगरानी और नियंत्रण के लिए मंत्रियों के तीन सदस्यीय समूह का गठन किया है. गाय और भैंस मुख्य रूप से लंपी त्वचा रोग की चपेट में आती हैं. इससे जानवर की त्वचा या खाल पर गांठें बन जाती हैं.

अधिक पढ़ें ...

चंडीगढ़: पंजाब में लंपी त्वचा रोग से अब तक 2,100 से अधिक मवेशियों की मौत हो चुकी है, जबकि 60,000 से अधिक प्रभावित हुए हैं. एक अधिकारी ने शनिवार को यह जानकारी दी. अधिकारी ने कहा कि पंजाब सरकार ने इस बीमारी के प्रसार की रोकथाम के प्रयास तेज कर दिए हैं और 1.45 लाख से अधिक मवेशियों को बकरे का टीका लगाया है.

मुख्यमंत्री भगवंत मान ने बीमारी के प्रसार की निगरानी और नियंत्रण के लिए मंत्रियों के तीन सदस्यीय समूह का गठन किया है. गाय और भैंस मुख्य रूप से लंपी त्वचा रोग की चपेट में आती हैं. इससे जानवर की त्वचा या खाल पर गांठें बन जाती हैं.

पंजाब, राजस्थान, उत्तराखंड, गुजरात और अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह इस बीमारी के प्रकोप की चपेट में हैं. पंजाब में लंपी त्वचा रोग का पहला पुष्ट मामला चार जुलाई को सामने आया था.

राज्य के पशुपालन विभाग के एक अधिकारी ने कहा, ‘‘शुक्रवार तक 60,329 मवेशी प्रभावित हुए हैं और 2,114 की मौत हुई है.’’ अधिकारी ने पीटीआई-भाषा को बताया, ‘‘शुक्रवार को टीके की 30,000 खुराकें दी गईं और हमारा लक्ष्य इसे रोजाना 50,000 खुराक तक ले जाने का है.’’

Tags: Bhagwant Mann, Lumpy Skin Disease, Punjab

अगली ख़बर