होम /न्यूज /पंजाब /

प्रदूषण घटाने के लिए पंजाब सरकार की पहल, फैक्ट्रियों में जलेगी पराली

प्रदूषण घटाने के लिए पंजाब सरकार की पहल, फैक्ट्रियों में जलेगी पराली

पंजाब सरकार फैक्ट्रियों में पराली का इस्‍तेमाल ईंधन के रूप में करने के लिए तैयारी कर रही है.

पंजाब सरकार फैक्ट्रियों में पराली का इस्‍तेमाल ईंधन के रूप में करने के लिए तैयारी कर रही है.

पंजाब के मंत्री मीत हेयर का कहना है कि आने वाले समय में ईंधन के तौर पर कोयले की जगह पराली का प्रयोग करने के तकनीकी समाधानों को प्रोत्साहित किया जाएगा. उन्‍होंने कहा कि विज्ञान प्रौद्यौगिकी और नई तकनीकों (एसटीआई) को राज्य के विकास की कुंजी के तौर पर विकसित करने के लिए कदम उठाए जाएंगे.

अधिक पढ़ें ...

    चंडीगढ़. पंजाब सरकार पराली से होने वाले प्रदूषण (Air Pollution) को कम करने के लिए नए-नए समाधान खोज रही है. हर साल खेतों में जलाई जाने वाले पराली को रोकने के लिए पंजाब सरकार मशीनरी से लेकर अन्‍य तमाम उपायों को अपना रही है हालांकि इस बार पराली (Crop Residue) से प्रदूषण को रोकने के लिए सरकार ने नई पहल की है. पंजाब के विज्ञान प्रौद्यौगिकी एवं पर्यावरण मंत्री गुरमीत सिंह मीत हेयर ने अब औद्यौगिक इकाइयों में कोयले की जगह ईंधन के रूप में पराली जलाने के लिए तकनीकी समाधानों को बढ़ावा देने की बात कही है.

    मीत हेयर का कहना है कि आने वाले समय में ईंधन (Fuel) के तौर पर कोयले (Coal) की जगह पराली का प्रयोग करने के तकनीकी समाधानों को प्रोत्साहित किया जाएगा. उन्‍होंने कहा कि विज्ञान प्रौद्यौगिकी और नई तकनीकों (एसटीआई) को राज्य के विकास की कुंजी के तौर पर विकसित करने सम्बन्धी मुख्यमंत्री भगवंत मान की प्रतिबद्धता पर चलते हुए इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए रणनीतियों पर विचार-विमर्श करने के लिए फैक्ट्रियों में पराली (Crop Residue in Factories) के इस्‍तेमाल को लेकर कदम उठाए जाएंगे इससे ना केवल निकासी का बोझ घटेगा बल्कि राज्य में पैलेटाईजेशन प्लांट स्थापित करने के लिए मार्केट शक्तियां पैदा करके रोजग़ार के अवसर भी पैदा होंगे.

    इन विचारों का प्रगटावा विज्ञान प्रौद्यौगिकी एवं पर्यावरण मंत्री गुरमीत सिंह मीत हेयर ने पंजाब स्टेट काउंसिल फॉर विज्ञान एंड टैक्‍नॉलॉजी (पीएससीएसटी), के मैगसीपा, सैक्टर 26 के अंतर्गत दफ्तर के दौरे के दौरान किया. पीएससीएसटी विज्ञान प्रौद्यौगिकी एवं पर्यावरण विभाग के विशेषज्ञों का एक समूह है. मीत हेयर ने इस बात की सराहना की कि पंजाब ने इंडिया इनोवेशन इंडैक्स रैंकिंग फ्रेमवर्क पर अपनी रैंकिंग में सुधार किया है, जोकि पिछले साल के 10वें रैंक से उठकर इस साल देश के 6वें सबसे नवीनताकारी प्रमुख राज्य के रूप में उभरा है.

    विज्ञान प्रौद्यौगिकी मंत्री ने पीएससीएसटी को एसटीआई ईको सिस्टम की दिशा में आगे बढ़ते रहने और तालमेल बनाए रखने का आग्रह भी किया, जिससे राज्य को नई ऊंचाईयों पर ले जाया जा सके. मीत हेयर ने आश्वासन दिया कि सभी विभागों को अपनी बड़ी चुनौतियों, जिनका अनुसंधान और विकास के द्वारा समाधान किया जा सकता है, को स्पष्ट करने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए एक विधि विकसित की जाएगी.

    विज्ञान प्रौद्यौगिकी एवं पर्यावरण के सचिव राहुल तिवाड़ी ने साफ-सुथरी तकनीकों का प्रदर्शन करने के लिए पीएससीएसटी की पहल पर प्रकाश डाला, जिसके नतीजे के रूप में शुद्ध हवा की गुणवत्ता में सुधार होने के साथ-साथ एमएसएमईज को आर्थिक लाभ हो रहा है.

    Tags: Air pollution, Punjab Government, Punjab news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर