• Home
  • »
  • News
  • »
  • punjab
  • »
  • उनका समय खत्‍म हुआ, लेकिन हटाने का तरीका सही नहीं- कैप्टन पर बोले पटियाला के लोग

उनका समय खत्‍म हुआ, लेकिन हटाने का तरीका सही नहीं- कैप्टन पर बोले पटियाला के लोग

कैप्‍टन अमरिंदर सिंह के सीएम पद से हटने के बाद न्यू मोती बाग पैलेस के पास पिछले कई सालों से चल रहे प्रदर्शन अब हटने लगे हैं.

कैप्‍टन अमरिंदर सिंह के सीएम पद से हटने के बाद न्यू मोती बाग पैलेस के पास पिछले कई सालों से चल रहे प्रदर्शन अब हटने लगे हैं.

पंजाब के पूर्व मुख्‍यमंत्री Captain Amarinder Singh को जिस तरह से सीएम की कुर्सी से उतारा गया, उस पर पटियाला (Patiala) के लोगों का कहना है कि 'उन्‍हें पता है कि कैप्‍टन का समय खत्‍म हो गया था, लेकिन यह उन्‍हें हटाने का कोई तरीका नहीं था.'

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

चंडीगढ़. पंजाब कांग्रेस (Punjab Congress) ने चरणजीत सिंह चन्नी (Charanjit Singh Channi) को राज्‍य का नया मुख्‍यमंत्री बनाकर भले ही पार्टी के अंदर चल रहे झगड़े को शांत कर दिया हो, लेकिन आने वाले विधानसभा चुनाव में उसकी राह आसान होती नहीं दिख रही है. पंजाब के पूर्व मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) को जिस तरह से सीएम की कुर्सी से उतारा गया, उससे पंजाब (Punjab) की जनता खुश नहीं है. पटियाला के लोगों का कहना है कि उन्‍हें पता है कि कैप्‍टन का समय खत्‍म हो गया था, लेकिन उन्‍हें हटाने का यह कोई तरीका नहीं था.

कैप्टन के शाही आवास न्यू मोती बाग पैलेस में मातम छाया है. पैलेस की ओर जाने वाली एक सड़क, जो अलग-अलग यूनियनों की ओर से यहां आयोजित विरोध प्रदर्शनों के चलते पिछले काफी समय से बंद थी, कैप्‍टन के सीएम न रहने के बाद अब पूरी तरह से खुल चुकी हैं. पटियाला की चर्चित लस्‍सी की दुकानों पर चर्चा है कि कैप्‍टन को पता था कि ऐसा होने जा रहा है. शहर में अभी भी कैप्‍टन और उनकी पत्‍नी परनीत कौर के होर्डिंग लगे हैं, जिसमें लिखा है ‘2022 के लिए कप्तान’. वहीं दूसरी तरफ शहर के मुख्‍य फव्‍वारा चौक पर चरणजीत सिंह चन्‍नी के होर्डिंग्‍स लगा दिए गए हैं, जो पंजाब में हुए बड़े बदलाव की कहानी साफ तौर पर बताते हैं.

Punjab Congress, Captain Amarinder Singh, Charanjit Singh Channi, Patiala, Punjab Assembly Elections 2022

शहर में अभी भी कैप्‍टन और उनकी पत्‍नी परनीत कौर के होर्डिंग लगे हैं, जिसमें लिखा है ‘2022 के लिए कप्तान’.

कैप्‍टन अमरिंदर ने हमसे कभी मुलाकात नहीं की
गुरुवार को न्यू मोती बाग पैलेस के गेट पर इंतजार कर रहे एक जोड़े को यह जानकार निराशा हुई कि परनीत कौर शहर में नहीं है. पूर्व सीएम पटियाला से विधायक हैं, लेकिन उनकी पत्‍नी ने यहां पर उनका किला संभाला हुआ था. परम सिंह और उनकी पत्‍नी ने कहा, ‘कैप्‍टन अमरिंदर सिंह पंजाब के मुख्‍यमंत्री रहते हुए कभी भी उनसे नहीं मिले. कोई भी उनके सिसवान फार्महाउस नहीं जा सका, लेकिन उनकी पत्‍नी यहां लोगों से मुलाकात करती रहती थीं. हम परनीत कौर से पहले भी मिल चुके हैं और उस समय उन्‍होंने हमें मदद का वादा किया था. हम एक बार फिर अपनी फरियाद लेकर उनके पास आए थे, लेकिन बताया जा रहा है कि वह एक सप्‍ताह के लिए बाहर गई हैं.’

शहर के मशहूर गोपाल और पटियाला शाही लस्‍सी की दुकानों पर हर समय पंजाब की बदली राजनीति पर चर्चा होती रहती है. पटियाला शाही में लस्सी की चुस्की लेते हुए शमशेर सिंह ने कहा, ‘कैप्‍टन को हटाया जाना पहले ही तय था. इसके पीछे उनका पंजाब के विकास के लिए कोई काम न करना है. पटियाला को ही देख लीजिए, पूरा शहर बर्बाद हो गया है. वहीं आप बठिंडा जाएं और देखें कि अकालियों ने कैसे वहां पर काम किया है. सच तो यह है कि कैप्टन का समय खत्‍म हो गया था और वह लोगों से पूरी तरह से कट गए थे. लेकिन उन्‍हें इस तरह अपमानित नहीं किया जाना चाहिए था. उनका अपमान जाट सिखों को आहत कर रहा है.’

Punjab Congress, Captain Amarinder Singh, Charanjit Singh Channi, Patiala, Punjab Assembly Elections 2022

कैप्‍टन अमरिंदर सिंह के सीएम पद से हटने के बाद से कैप्टन के शाही आवास न्यू मोती बाग पैलेस में मातम छाया है.

न्यू मोती बाग पैलेस के बाहर से जा रहे प्रदर्शनकारी
कैप्टन के साथ व्यवहार को लेकर पटियाला में लोग आहत जरूर हैं, लेकिन कुछ लोगों के लिए यह बदलाव राहत लेकर आया है. न्यू मोती बाग पैलेस के बाहर कई सालों से चला आ रहा विरोध प्रदर्शन अब खत्‍म हो चुका है. स्‍थानीय लोग ट्रैफिक जाम से राहत महसूस कर रहे हैं. एक स्थानीय दुकानदार भूपिंदर सिंह कहते हैं, ‘आज लगभग दो साल में पहली बार मैं वाईपीएस चौक की सड़क से गुजर सका हूं. पिछले कई सालों से यहां पर जारी प्रदर्शन के चलते पुलिस ने सड़क को अवरुद्ध कर दिया था.’ फव्वारा चौक के पास अभी भी एक बड़ा विरोध जारी है, लेकिन यहां की यूनियन का कहना है कि अगले दो दिनों में वह भी जगह खाली कर देंगे, क्योंकि सीएम बदल गए हैं.

वरिंदर सिंह सोनी ने कहा, ‘हम 25 सितंबर से अपने ट्रैक्टरों के साथ मोरिंडा या चमकौर साहिब जाएंगे, क्योंकि नए सीएम चरणजीत चन्नी वहीं से हैं. हमारे लिए केवल सीएम का चेहरा बदला है, इस सरकार की नीतियां नहीं.’ सोनी ने कहा, ‘अभी भी राज्‍य के अस्‍थायी कर्मचारियों को नियमित नहीं किया गया है. जब तक हमारी मांगों को पूरा नहीं किया जाएगा, तब तक हमारा प्रदर्शन जारी रहेगा. सीएम चाहे जो भी हो हमारा प्रदर्शन जारी रहेगा.’

कैप्‍टन अमरिंदर सिंह को मिलेगी सहानुभूति?
पटियाला में लंबे समय से कैप्टन को वोट देने वाले लोगों का कहना है कि उन्हें जिस तहर से कुर्सी छोड़ने पर मजबूर किया गया है, उसे देखने के बाद कुछ सहानुभूति मिलेगी और पटियाला से कैप्‍टन फिर से आसानी से जीत जाएंगे. कैप्‍टन चाहे किसी भी पार्टी से लड़ें या यहां तक कि निर्दलीय चुनाव में उतरें, उनका जीतना तय है. कैप्टन पहली बार 2002 में पटियाला से विधायक बने थे. पटियाला के मशहूर एसी मार्केट में दुकान चलाने वाले 78 वर्षीय सतनाम सिंह कहते हैं, ‘हमने पिछले दो दशकों में हमेशा कैप्टन को वोट दिया है. कैप्‍टन सीएम हों या न हों. उन्हें इस तरह से अपमानित नहीं किया जाना चाहिए था.’

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज