पंजाब में रेल सेवा बहाली की मांग को लेकर हाईकोर्ट में याचिका दाखिल

पंजाब में रेल का चक्‍का जाम है.
पंजाब में रेल का चक्‍का जाम है.

सुनवाई के दौरान केंद्र सरकार की ओर से एडिशनल सॉलिसिटर जनरल ने पेश होकर जानकारी दी कि केंद्र और रेलवे चाहता है कि पंजाब में मालगाडि़यों के साथ ही यात्री रेल गाड़ी भी चलें.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 10, 2020, 1:33 PM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) के कारण लगाए गए लॉकडाउन (Lockdown) के हटाए जाने के बाद भी एक माह से पंजाब (Punjab) में रेल सेवाएं बंद हैं. अब यह मामला पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट (Punjab Haryana high court) पहुंच गया है. मंगलवार को हुई सुनवाई के दौरान केंद्र सरकार की ओर से एडिशनल सॉलिसिटर जनरल ने पेश होकर जानकारी दी कि केंद्र और रेलवे चाहता है कि पंजाब में मालगाड़ियों के साथ ही यात्री रेल गाड़ी भी चलें. उन्‍होंने यह भी कहा कि पंजाब के मुख्‍यमंत्री अमरिंदर सिंह की ओर से सिर्फ मालगाड़ी चलाने का ही पत्र मिला है.

एडिशनल सॉलिसिटर जनरल ने यह भी कहा है कि पंजाब सरकार अगर यह सुनिश्चित करती है कि सभी रेल ट्रैक और रेलवे स्‍टेशन को प्रदर्शनकारियों से खाली करवा लिया गया है और ट्रेनों को सुरक्षा मुहैया कराई जाए तो केंद्र सरकार 24 घंटे में प्रदेश में रेल सेवाएं बहाने करने को तैयार है. बता दें कि पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने शुक्रवार को राज्य में आंदोलनकारी किसानों से रेल ट्रैक खाली करने की अपील की थी. ताकि राज्य में यात्री ट्रेनों का आवागमन सुचारू रूप से हो सके.

पंजाब सरकार की ओर से कहा गया था कि केंद्र सरकार ने कृषि कानून के मुद्दे पर विचार विमर्श के लिए कदम उठाए हैं. ऐसे में किसानों को ट्रेनों के आवागमन के लिए ट्रैक खाली कर देना चाहिए.

आंदोलनकारी किसानों की ओर से रेल ट्रैक ब्लॉक किए जाने के चलते रेलवे ने पंजाब में ट्रेनों का संचालन रोक दिया है. पंजाब सरकार ने रेलवे से मालगाड़ी चलाने का अनुरोध किया था, लेकिन रेलवे ने यह कहते हुए मना कर दिया कि राज्य तय नहीं कर सकते कि कौन सी ट्रेन चलाई जाए और कौन सी नहीं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज