जहरीली शराब कांड: पुलिस ने दो फरार आरोपियों को किया गिरफ्तार
Chandigarh-Punjab News in Hindi

जहरीली शराब कांड: पुलिस ने दो फरार आरोपियों को किया गिरफ्तार
पंजाब में जहरीली शराब त्रासदी में मरने वालों की संख्या 104 हो गई है. (फाइल फोटो)

पंजाब में पुलिस (Punjab Police) ने जहरीली शराब त्रासदी के संबंध में शुक्रवार को दो फरार आरोपियों को गिरफ्तार किया और इस मामले से जुड़े सभी मुख्य आरोपियों के विरुद्ध प्राथमिकी में हत्या की धाराओं को दर्ज किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 8, 2020, 9:00 AM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. पंजाब पुलिस (Punjab Police) ने जहरीली शराब त्रासदी के संबंध में शुक्रवार को दो फरार आरोपियों को गिरफ्तार किया और इस मामले से जुड़े सभी मुख्य आरोपियों के विरुद्ध प्राथमिकी में हत्या की धाराओं को दर्ज किया.

पुलिस महानिदेशक दिनकर गुप्ता ने कहा कि मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के निर्देश पर जहरीली शराब से हुई मौतों के मामले में जिम्मेदार सभी मुख्य आरोपियों के विरुद्ध दर्ज प्राथमिकी में भारतीय दंड संहिता की धारा 302 को जोड़ा गया है.

अब तक इस मामले में कुल 54 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है जिनमें से तरन तारन में 37, अमृतसर ग्रामीण में नौ और बटाला में आठ गिरफ्तारियां की गईं.तरन तारन में शुक्रवार सुबह मुख्यमंत्री ने मृतकों के परिजनों से मुलाकात की और कहा कि जहरीली शराब कांड में 121 लोगों की जान चली गई. उन्होंने कहा कि यह कोई दुर्घटना नहीं बल्कि 'हत्या' थी जिसके लिए दोषियों को कड़ी सजा दी जाएगी.



अमरिंदर ने पीड़ित परिवारों से कहा- किसी को बख्शा नहीं जाएगा
इससे पहले  पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिन्दर सिंह ने शुक्रवार को जहरीली शराब कांड के पीड़ित परिवारों से तरन तारन जिले में मुलाकात की और कहा कि यह कोई दुर्घटना नहीं बल्कि 'हत्या' है और दोषियों को कड़ी सजा दी जाएगी. सिंह ने कहा कि तरन तारन में आठ और लोगों की मौत के बाद जहरीली शराब कांड में मरने वालों की संख्या 121 हो गई है. जहरीली शराब से तरन तारन में 92, अमृतसर में 15 और गुरदासपुर में 14 लोगों की जान गई है.

तरन तारन में पीड़ितों के परिवारों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, ' इसमें शामिल किसी व्यक्ति को बख्शा नहीं जाएगा. इसमें संलिप्त हरेक व्यक्ति के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.' सिंह ने परिवारों से भी बात की और दोषियों के खिलाफ उठाए गए कदमों की जानकारी ली.

मुख्यमंत्री के साथ वहां पहुंचे राज्य कांग्रेस अध्यक्ष सुनील झाकड़ ने मृतकों के परिवारों को दी जाने वाली मुआवजा राशि दो लाख रुपये से बढ़ाकर पांच लाख रुपये करने की घोषणा की. उन्होंने इस हादसे में आंखों की रोशनी गंवाने वालों को भी पांच लाख रुपये मुआवजा देने की घोषणा की. सिंह ने पीड़ितों के परिवारों से कहा कि यह 'मानव-निर्मित' त्रासदी है. मुख्यमंत्री ने कहा, ' यह दुर्घटना नहीं लेकिन हत्या है. क्योंकि जब कोई ऐसी चीज (जहरीली शराब) बनाता है तो उसे पता होता है कि इससे लोगों की जान जा सकती है. इसलिए मेरा मानना है कि यह हत्या है.'  (भाषा इनपुट के साथ)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज