• Home
  • »
  • News
  • »
  • punjab
  • »
  • पंजाब को न मिला कोयला तो छा सकता है अंधेरा, 5 से 8 घंटे तक हो रही बिजली कटौती

पंजाब को न मिला कोयला तो छा सकता है अंधेरा, 5 से 8 घंटे तक हो रही बिजली कटौती

पंजाब में चल रहा है पावर कट. (file pic)

पंजाब में चल रहा है पावर कट. (file pic)

Punjab Power Cut: पंजाब के मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह चन्‍नी ने राज्य के लिए कोयले की सप्लाई तुरंत बढ़ाने की अपील की है.

  • Share this:

    चंडीगढ़. पंजाब (Punjab) में कोयले की कमी (Coal Shortage) के कारण पांच थर्मल प्लांट इकाइयां (Thermal Plant Units) बंद होने से लोगों को शहर से गांवों तक 5 से 8 घंटे के पावरकट (Power Cuts) झेलने पड़ रहे हैं. जल्द ही कोयले की कमी को पूरा नहीं किया गया तो पूरा पंजाब अंधेरे में डूबने की संभावना है. कोल इंडिया लिमिटेड (Coal India Limited) की अलग-अलग सहायक कंपनियों द्वारा पंजाब राज्य बिजली निगम लिमिटेड (Punjab State Electricity Corporation Limited) के समझौतों के मुताबिक कोयले की अपेक्षित सप्लाई न करने के लिए सीएम चरणजीत सिंह चन्नी (CM Charanjit Singh channi) ने केंद्र सरकार की आलोचना की है.

    सीएम चन्‍नी ने निर्धारित कोयले की मात्रा के मुताबिक राज्य के लिए कोयले की सप्लाई तुरंत बढ़ाने की अपील की है. जिससे बिजली संकट पर काबू पाया जा सके. उन्होंने कहा कि कोयले के भंडार घटने के कारण राज्य के थर्मल प्लांट बंद हो सकते हैं, क्योंकि अगले कुछ दिनों में मौजूद भंडार भी खत्म होने की संभावना है.

    राज्य की बिजली की स्थिति का जायजा लेते हुए सीएम चन्नी ने कहा कि कोयले की उचित सप्लाई न मिलने के कारण सभी थर्मल प्लांट पूरी क्षमता के साथ बिजली उत्पादन करने के योग्य नहीं हैं. हालांकि मुख्यमंत्री ने अपनी सरकार की दृढ़ प्रतिबद्धता दोहराते हुए कहा कि जहां भी धान की फसल पकने तक सिंचाई के लिए बिजली की जरूरत है, वहां सप्लाई को सुनिश्चित बनाया जाएगा. उन्होंने कहा कि शहरों और गांवों में घरेलू उपभोक्ताओं के लिए बिजली कट लगाए जा रहे हैं, जिससे कृषि क्षेत्र के लिए उचित बिजली सप्लाई सुनिश्चित बनाने के साथ-साथ ग्रिड अनुशासन को कायम रखा जा सके.

    इससे पहले चेयरमैन-कम-मैनेजिंग डायरेक्टर ए वेनू प्रसाद ने मुख्यमंत्री को जानकारी दी कि देश भर में थर्मल प्लांट कोयले की कमी और कोयले की सप्लाई के संकट में से गुजर रहे हैं. राज्य में प्राइवेट बिजली निर्माता (आईपीपी) के पास कोयले का स्टॉक दो दिन से भी कम बचा है, जिनमें नाभा पावर प्लांट (1.9 दिन), तलवंडी साबो प्लांट (1.3 दिन), जीवीके के पास (0.6 दिन) का ही स्टॉक है और यह लगातार कम हो रहा है, क्योंकि कोल इंडिया लिमिटेड द्वारा जरूरत के मुताबिक कोयले की सप्लाई नहीं की गई.

    पीएसपीसीएल के प्लांट गुरु गोबिन्द सिंह सुपर थर्मल प्लांट, रोपड़ और गुरु हरगोबिंद थर्मल प्लांट, लहरा मोहब्बत, के पास सिर्फ दो दिन का स्टॉक है और रोज कम हो रहा है. इन सभी प्लांटों के पास इंडिया की सहायक कंपनियों द्वारा इनके साथ हुए फ्यूल सप्लाई समझौतों के अंतर्गत कोयले की सप्लाई दी जाती है, परन्तु इस समय पर सप्लाई जरुरी स्तर से भी बहुत कम है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज