Home /News /punjab /

pritam separated from his family during partition pakistani youtuber took up the initiative to join

बंटवारे के दौरान अपनों से बिछड़ गया था प्रीतम, पाकिस्तानी यू-ट्यूबर ने उठाया मिलाने का बीड़ा

80 वर्षीय प्रीतम खान पंजाब के लुधियाना जिले की समराला तहसील के पूत गांव में रहते हैं. फोटो- news18

80 वर्षीय प्रीतम खान पंजाब के लुधियाना जिले की समराला तहसील के पूत गांव में रहते हैं. फोटो- news18

Punjab News: प्रीतम खान के अनुसार उनके पिता पोपो खान और तीन भाई खेतों में छिप गए थे और 1947 में दंगे होने पर भागने में सफल रहे थे.

(एस. सिंह)
चंडीगढ़. पाकिस्तानी YouTuber नासिर ढिल्लो ने दो भाइयों सिक्का खान और सादिक खान को मिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के बाद अब भारत स्थित पाकिस्तान उच्चायोग को एक अन्य व्यक्ति प्रीतम खान को पाकिस्तान में अपने रिश्तेदारों से मुलाकात के लिए वीजा देने को लिखा है. 80 वर्षीय प्रीतम खान पंजाब के लुधियाना जिले की समराला तहसील के पूत गांव में रहते हैं. जब वह लगभग छह साल के थे, तो बंटवारे के दौरान अपने परिवार से अलग हो गए थे. उनके पिता और भाई पाकिस्तान चले गए जबकि उनकी मां की भूख से उस कुएं में मौत हो गई थी, जहां वह कई दिन तक अपनी जान बचाने के लिए छिपी रही थीं.

कैसे शुरू हुई तलाश
इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए नासिर ढिल्लो ने बताया कि ‘कुछ महीने पहले प्रीतम खान के भतीजे ने मुझसे मुलाकात की और कहा कि वह अपनी दादी और चाचा की तलाश में है, जो विभाजन के दौरान परिवार के अन्य सदस्यों से अलग हो गए थे. मैंने सोशल मीडिया पर एक छोटा वीडियो अपलोड किया.’ बाद में लुधियाना के पूत के ग्रामीणों ने मुझसे संपर्क किया और मुझे प्रीतम खान के बारे में बताया. वह कहते हैं कि प्रीतम खान अपने भतीजे और अन्य रिश्तेदारों से मिल सकता है, लेकिन वह अपने पिता और भाइयों को नहीं देख पाएगा, जिनकी मृत्यु हो चुकी है. विभाजन के बाद वे फैसलाबाद के चक 95 में बस गए थे.

भूख से कुएं में हुई मां की मौत
प्रीतम खान के अनुसार उनके पिता पोपो खान और तीन भाई खेतों में छिप गए थे और 1947 में दंगे होने पर भागने में सफल रहे थे. प्रीतम खान को उनके और उनकी मां रहमत बीबी के पीछे एक हिंसक भीड़ याद आती है, जब वे अपनी जान बचाने के लिए भागे थे. उनका कहना है कि उनकी मां एक कुएं में छिप गईं और उन्होंने चार बार बाहर आने की कोशिश की, लेकिन उन्हें हर बार पीछे हटना पड़ा क्योंकि भीड़ उन्हें बाहर ढूंढ रही थी. अंत में वह कुएं के अंदर भूख से मर गई, जबकि वह खुद को बचाने के लिए पास के एक खेत में कई दिनों तक छिपे रहे.

पाकिस्तान में अंतिम सांस लेना चाहते हैं प्रीतम खान
प्रीतम खान कहते हैं कि स्थिति सामान्य होने पर वह अपने गांव वापस गए और सिख परिवारों को कहानी सुनाई जिन्होंने बाद में उनकी देखभाल की. उनके पिता और तीन भाई पहले ही पाकिस्तान की सीमा पार कर चुके थे. प्रीतम खान अपने जीवन के अंतिम पड़ाव में है. वह भारत और पाकिस्तान दोनों सरकारों से अनुरोध कर रहे हैं कि वह अपने रिश्तेदारों के साथ पाकिस्तान में अपनी अंतिम सांस लेना चाहते हैं. YouTuber नासिर ढिल्लो ने कहा कि वह विनम्रतापूर्वक भारत में पाकिस्तान उच्चायोग से अनुरोध करते हैं कि प्रीतम खान को पाकिस्तान में उनके परिवार के सदस्यों के साथ शामिल होने के लिए वीजा जारी किया जाए.

Tags: Punjab

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर