Punjab Budget Session: खैहरा पर ED की कार्रवाई के खिलाफ विधानसभा में लाया जाएगा निंदा प्रस्ताव

बुधवार को पंजाब बजट सत्र का अंतिम दिन था. (Pic- News18)

बुधवार को पंजाब बजट सत्र का अंतिम दिन था. (Pic- News18)

पंजाब विधानसभा (Punjab Assembly) में यह मामला आम आदमी पार्टी के बागी विधायक कंवर संधू (Kanwar Sandhu) ने उठाया. इसके बाद कांग्रेस विधायकों ने भी उनका समर्थन किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 10, 2021, 1:57 PM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. पंजाब विधानसभा के बजट सत्र (Punjab Budget Session) के अंतिम दिन बुधवार को पंजाब एकता पार्टी के विधायक सुखपाल खैहरा (MLA Sukhpal Khaira) के आवास पर प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Department) के छापे का मामला एक बार फिर से गरमा गया. यह मामला आम आदमी पार्टी के बागी विधायक कंवर संधू (Kanwar Sandhu) ने उठाया. इसके बाद कांग्रेस विधायकों ने भी उनका समर्थन किया. सभी विधायकों ने इस तरह की कार्रवाई के खिलाफ विधानसभा में निंदा प्रस्ताव लाने पर सहमति जताई.

सिद्धू बोले- रोकनी चाहिए थी कार्रवाई
सदन की कार्यवाही शुरू होते ही कंवर संधू ने कहा कि विधानसभा की कार्यवाही के दौरान ईडी की कार्रवाई बिलकुल गलत है. उन्होंने कहा कि सुखपाल खैहरा को ईडी ने विधानसभा की कार्यवाही में हिस्सा लेने से भी रोका है. जबकि किसी भी विधायक को सदन की कार्यवाही में हिस्सा लेने से रोका नहीं जा सकता. इसलिए ईडी को यदि इस तरह की कार्रवाई करनी ही थी तो उसे विधानसभा स्पीकर को पहले विश्वास में लेना चाहिए था. इस पर कांग्रेस के विधायक व पूर्व मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने कहा कि पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी द्वारा सीबीआई को कार्रवाई को रोकने के कदम की तर्ज पर हमें भी ऐसा कदम उठाना चाहिए था.

संवैधानिक संस्थाओं का किया जा रहा है गलत इस्तेमाल
इस पर कंवर संधू ने भी सिद्धू की बात का समर्थन किया और कहा कि यहां बड़ा सवाल उठता है कि क्या हम फ्री सोसाइटी में जी रहे हैं या फियर सोसाइटी में? केंद्र की भाजपा सरकार की मुखालफत करने वालों की आवाज दबाने के लिए संवैधानिक संस्थाओं का गलत इस्तेमाल किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि जो ये लोग करते हैं वो राष्ट्रधर्म हैं, हम करें तो देशद्रोह है. उन्होंने कहा कि ड्रग के मामले में ईडी को चार साल पहले कार्रवाई करनी चाहिए थी. केंद्र सरकार को यह भी बताना चाहिए कि उस समय ईडी के अधिकारी निरंजन सिंह का तबादला क्यों किया गया.



किसानों के पक्ष में खड़े विधायकों में भय का माहौल
संसदीय कार्य मंत्री ब्रह्म महिंद्रा ने भी ईडी की कार्रवाई की निंदा की और कहा कि इससे उन विधायकों में भय का माहौल बना हुआ है जो किसान आंदोलन का समथर्न कर रहे हैं. विधायकों ने इस पर एक प्रस्ताव सर्वसम्मति से विधानसभा में पेश किए जाने की भी वकालत की. इस दौरान विधायक सुखपाल खैहरा ने सदन को बताया कि ईडी ने उनकी बेटी द्वारा कैंसर के मरीजों को दी गई सहायता राशि की डायरी पर भी उनके साइन करवाए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज