• Home
  • »
  • News
  • »
  • punjab
  • »
  • पंजाब में खत्म हुई कांग्रेस की कलह? नवजोत सिंह सिद्धू के ट्वीट्स कर रहे कैप्टन के साथ सीजफायर का इशारा

पंजाब में खत्म हुई कांग्रेस की कलह? नवजोत सिंह सिद्धू के ट्वीट्स कर रहे कैप्टन के साथ सीजफायर का इशारा

नवजोत सिंह सिद्धू और अमरिंदर सिंह के बीच ठीक हो रहे हालात?. (File pic)

कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Sing Sidhu) ने सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार की एक याचिका को लेकर उसकी आलोचना की. हालांकि इस दौरान उन्होंने सीएम अमरिंदर सिंह पर निशाना नहीं साधा.

  • Share this:
    चंडीगढ़. कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Sing Sidhu) ने सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार की एक याचिका को लेकर शनिवार को उसकी आलोचना की. इस आलोचना के बाद यह संकेत मिल रहे हैं कि राज्य में सीएम अमरिंदर सिंह की सरकार के प्रति सिद्धू का रुख थोड़ा नर्म हुआ हुआ है. बिजली की कमी को लेकर विरोधियों के साथ मुख्यमंत्री को घेरने के एक हफ्ते बाद, सिद्धू ने शनिवार को सिर्फ आप और शिरोमणि अकाली दल पर निशाना साधा.

    दरअसल, आप ने याचिका के जरिए तीन राज्यों में 10 थर्मल पावर प्लान्ट को बंद करने के लिए अदालत से निर्देश देने का अनुरोध किया था, हालांकि बाद में यह याचिका वापस ले ली गई. भारतीय जनता पार्टी और शिरोमणि अकाली दल ने भी याचिका को लेकर AAP की आलोचना की है तथा उस पर पंजाब के हितों के खिलाफ साजिश रचने का आरोप लगाया.

    इस याचिका पर सिद्धू ने ट्वीट किया, ‘पंजाब का विनाश करने पर आमादा ताकतें आज स्पष्ट रूप से दिख रही है...दिल्ली सरकार चाहती है कि पंजाब की जीवनरेखा, हमारे थर्मल पावर प्लान्ट बिजली संकट के बीच बंद कर दिये जाएं ताकि पंजाबवासी इस चिलचिलाती गर्मी में असहाय हो जाएं और हमारे किसान धान रोपाई के मौसम में परेशान हों.’



    सिद्दू के साथ हुआ सीजफायर?
    इस आलोचना के बाद माना जा रहा है कि सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह और उनके बीच स्थितियां कुछ ठीक हो गई है. दरअसल, इन ट्वीट्स में सिद्धू ने अमरिंदर सरकार या सीएम का नाम नहीं लिखा है. ऐसे में यह समझा जा रहा है कि कांग्रेस आलाकमान के साथ दोनों नेताओं की हुई बैठक के सकारात्मक परिणाम सामने आ रहे हैं.

    बीते हफ्तों में कैप्टन और सिद्धू ने अलग-अलग कांग्रेस हाईकमान से वार्ता की थी. कांग्रेस नेता राहुल और प्रियंका के साथ सिद्धू की मुलाकात के बाद कैप्टन की कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया से मुलाकात हुई थी. सूत्रों का मानना है कि कांग्रेस ने सिद्धू को पंजाब कांग्रेसमें बड़ा पद देने का वादा किया है.

    गौरतलब है कि पंजाब अभूतपूर्व बिजली संकट का सामना कर रहा है. शहरी और ग्रामीण इलाकों में बिजली कटौती की जा रही है और वोल्टेज भी घट-बढ़ रहा है. कांग्रेस विधायक सिद्धू ने एक अन्य ट्वीट में बादल परिवार पंजाब में शिअद-भाजपा शासन के दौरान बिजली खरीद समझौतों पर हस्ताक्षर करने का आरोप लगाया.

    पिछले हफ्ते भी उठाया था बिजली का मुद्दा
    बीते हफ्ते सिद्धू ने कहा था कि एक कानून के जरिए पंजाब में बिजली खरीद समझौते (पीपीए) को रद्द करने की मांग करते हुए कहा कि मुफ्त बिजली के ‘खोखले वादों’ का कोई मतलब नहीं है, जब तक कि शिरोमणि अकाली दल-भारतीय जनता पार्टी की पूर्ववर्ती सरकार के दौरान हस्ताक्षरित इन समझौतों को रद्द नहीं किया जाता.

    क्रिकेटर से नेता बने सिद्धू ने सिलसिलेवार ट्वीट में यह भी कहा था कि अगर पीपीए के तहत निजी बिजली संयंत्रों को दिए जा रहे तय शुल्क का भुगतान नहीं किया गया, तो बिजली की लागत सस्ती हो सकती है. पंजाब में बिजली संकट के बीच सिद्धू पिछले कुछ दिनों से खासकर पीपीए का मुद्दा उठा रहे हैं.

    सिद्धू ने एक ट्वीट में कहा था, ‘मुफ्त बिजली के खोखले वादों का कोई मतलब नहीं है, जब तक कि ‘‘पंजाब विधानसभा में नए कानून’’ के माध्यम से पीपीए को रद्द नहीं किया जाता है...जब तक पीपीए के दोषपूर्ण खंड पंजाब के लिए बाध्यकारी हैं, 300 यूनिट मुफ्त बिजली केवल एक कल्पना है.’ (भाषा इनपुट के साथ)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज