2022 पंजाब विधानसभा चुनावों की तैयारी, सुखबीर बादल ने खुद को घोषित किया जलाबाद से उम्मीदवार

वर्तमान में सुखबीर बादल शिअद के फिरोजपुर सांसद हैं.

वर्तमान में सुखबीर बादल शिअद के फिरोजपुर सांसद हैं.

सुखबीर बादल ने कहा, यदि शिरोमणि अकाली दल की सरकार वापिस सत्ता में आती है तो सबसे पहला काम यह करेगी की राज्य में तीनों कृषि कानूनों (Farms Law) को लागू नहीं होने देगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 17, 2021, 9:56 PM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. शिरोमणि अकाली दल (Shiromani Akali Dal) ने 2022 में होने वाले विधानसभा (Punjab Assembly Election 2022) चुनाव का बिगुल बजा दिया है. इसी कड़ी में रविवार को शिअद (SAD) के प्रधान सुखबीर बादल (Sukhbir Badal) ने अपने आप को विधानसभा चुनाव का पहला उम्मीदवार घोषित किया है. उन्होंने जलालाबाद विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ने का ऐलान किया है. वह आज जलालाबाद में "पंजाब मांगता है जवाब" रैली को संबोधित कर रहे थे.

उन्होंने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि यदि शिरोमणि अकाली दल की सरकार वापिस सत्ता में आती है तो सबसे पहला काम यह करेगी की राज्य में तीनों कृषि कानूनों (Farms Law) को लागू नहीं होने देगी. उन्होने कहा कि सरकार आने पर लोगों के घरों की बिजली के बिलों को आधा कर देगी. एसीएसटी को दी जाने वाली स्कॉलरशिप को दोबारा से शुरू करने का भी बादल ने वादा किया.

Youtube Video




एससी/एसटी छात्रों को मुफ्त शिक्षा देने का वादा
उन्होंने कहा कि सरकार के आने पर एससी व एसटी के छात्रों को मुफ्त शिक्षा देने का भी उन्होंने ऐलान किया. शिअद के प्रधान ने कहा कि कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) की सरकार ने जलालाबाद के लोगों के साथ वादा खिलाफी की है.शिअद कार्यकर्ताओं को झूठे केसों में फंसाया जा रहा है. उनको डराने धमकाने की कोशिशें की जा रही हैं. उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने हमारे कार्यकर्ताओं के खिलाफ जितने भी केस दर्ज किए हैं सरकार आने पर उन्हें रद्द किया जाएगा.

ये भी पढ़ें- नंदीग्राम में ममता बनर्जी पर हमले का कोई सबूत नहीं मिला- चुनाव आयोग

वर्तमान में सुखबीर बादल शिअद के फिरोजपुर सांसद हैं. पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए अभी एक साल बाकी है. ऐसे में अभी से ही चुनाव लड़ने का ऐलान करके सुखबीर बादल ने सभी राजनीतिक दलों को चौंका दिया है. हालांकि अगर 2022 में सुखबीर सिंह बादल जलालाबाद जीत जाते हैं तो उन्हें सांसद की सीट छोड़नी पड़ सकती है क्योंकि एक समय पर दो जगह पर वो सीट नहीं रख सकते. जलालाबाद में उपचुनाव में यहां से कांग्रेस उम्मीदवार रमिंदर आमला (Raminder Amla) यह सीट जीती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज