होम /न्यूज /पंजाब /पंजाब विधानसभा भर्ती घोटाला: पूर्व उपाध्यक्ष पर आरोप- भतीजी को ही बनाया था रसोइया, 50000 रुपये थी तनख्वाह

पंजाब विधानसभा भर्ती घोटाला: पूर्व उपाध्यक्ष पर आरोप- भतीजी को ही बनाया था रसोइया, 50000 रुपये थी तनख्वाह

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष अजैब सिंह भट्टी (गुलाबी पगड़ी में). File Photo

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष अजैब सिंह भट्टी (गुलाबी पगड़ी में). File Photo

हरजोत सिंह बैंस ने पंजाब विधानसभा अध्यक्ष कुलतार सिंह संधवां को भेजे गए शिकायती पत्र में कहा है कि पूर्व स्पीकर राणा के ...अधिक पढ़ें

चंडीगढ़: पंजाब विधानसभा के पूर्व उपाध्यक्ष अजैब सिंह भट्टी पर भ्रष्टाचार और भाई-भतीजावाद को बढ़ावा देने का आरोप लगा है. ‘द ट्रिब्यून’ प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार अजैब सिंह भट्टी की भतीजी सुमनप्रीत कौर उनके रसोइए के रूप में काम करती थीं, जिसके लिए उन्हें 50,000 रुपये मासिक वेतन मिलता था. रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि सुमनप्रीत को बाद में, पंजाब विधानसभा में क्लर्क पद पर ‘एडजस्ट’ कर दिया गया. यह मामला तब सामने आया है, जब भगवंत मान सरकार ने कांग्रेस शासनकाल के दौरान पंजाब विधानसभा में कर्मचारियों की भर्ती में हुए कथित घोटाले की जांच के आदेश दिए हैं.

पंजाब विधानसभा के अध्यक्ष कुलतार सिंह संधवां ने गुरुवार को यह जानकारी दी. न्यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत में कुलतार सिंह संधवां ने कहा, ‘मुझे राज्य विधानसभा में नियुक्तियों में अनियमितता की शिकायत मिली थी. हम इसकी जांच करवाएंगे और कानून के मुताबिक कार्रवाई करेंगे. यह कहना जल्दबाजी होगी कि इसमें कौन शामिल थे.’ द ट्रिब्यून की रिपोर्ट के मुताबिक, सुमनप्रीत कौर का मामला अकेला नहीं है. पंजाब की मौजूदा सरकार ने कांग्रेस शासन के दौरान विधानसभा में 154 पदों पर हुई भर्ती की जांच का आदेश दिया है, ऐसे में कुछ और कर्मचारी हो सकते हैं, जिनकी नियुक्ति गलत तरीके से हुई हो.

पंजाब विधानसभा अध्यक्ष कुलतार सिंह संधवां ने कहा कि उन्हें पर्यटन मंत्री हरजोत सिंह बैंस से इस मामले में शिकायत मिली है. शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया है कि कांग्रेस शासन (2017-22) के दौरान पूर्व विधानसभा अध्यक्ष राणा केपी सिंह की सिफारिश पर अधिकतम 170 कर्मचारियों की भर्ती की गई थी, जिसमें अनियमितता बरती गई. हरजोत सिंह बैंस ने पंजाब विधानसभा अध्यक्ष कुलतार सिंह संधवां को भेजे गए शिकायती पत्र में कहा है कि पूर्व स्पीकर राणा केपी सिंह, पूर्व डिप्टी स्पीकर अजैब सिंह भट्टी, पूर्व वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह राजा वड़िंग ने चहेतों की विधानसभा स्टाफ में नियुक्ति करा कर योग्य अभ्यर्थियों को नौकरी से वंचित किया. उन्होंने दावा किया है कि कांग्रेस शासनकाल में पंजाब विधानसभा स्टाफ के लिए हुई भर्ती एक बड़ा घोटाला है.

Tags: Congress, Punjab Government, Scam

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें