Home /News /punjab /

Punjab Assembly Election: पंजाब को 71 सालों में मिली केवल 89 महिला विधायक, इस बार भी 8% ही टिकट मिले

Punjab Assembly Election: पंजाब को 71 सालों में मिली केवल 89 महिला विधायक, इस बार भी 8% ही टिकट मिले

किसी भी राजनीतिक द्वारा घोषित सूची में महिलाओं को ज्यादा तरजीह नहीं दी गई है. (सांकेतिक तस्वीर: Shutterstock)

किसी भी राजनीतिक द्वारा घोषित सूची में महिलाओं को ज्यादा तरजीह नहीं दी गई है. (सांकेतिक तस्वीर: Shutterstock)

Punjab Assembly Election: अभी तक कांग्रेस (Congress) ने जितने भी उम्मीदवारों के नाम घोषित किए हैं, उनमें केवल 9 महिलाएं हैं. आम आदमी पार्टी ने भी अभी तक के घोषित 112 उम्मीदवारों में से 12 ही महिलाओं को टिकट दिया है. अकाली दल की 94 उम्मीदवारों की सूची में केवल चार ही महिलाएं अपना नाम दर्ज करवा पाईं हैं. संयुक्त समाज मोर्चा ने अपने 30 उम्मीदवारों के नाम घोषित किए हैं जिनमें मात्र एक महिला को टिकट दिया गया है.

अधिक पढ़ें ...

चंडीगढ़. पंजाब की सियासत (Punjab Politics) में आजादी के बाद से महिलाओं की स्थिति संतोषजनक नहीं रही है. सूबे की राजनीति में महिलाओं को तरजीह देने की राजनीतिक दल (Political Parties) दावे तो करते हैं, लेकिन यह सब 1951 के बाद से ही खोखले साबित हो रहे हैं. इस चुनाव में अभी तक जारी सूची में करीब 8 फीसदी ही टिकट महिलाओं को दिए गए हैं. एक रिपोर्ट के मुताबिक 1951 से अब तक की बात करें तो अभी तक विधानसभा में 1799 पुरुष और 89 महिलाएं यानी 4.94 फीसदी महिलाएं ही विधायक चुन कर आई हैं.

किसी भी राजनीतिक द्वारा घोषित सूची में महिलाओं को ज्यादा तरजीह नहीं दी गई है. चुनाव में में उतरे चार बड़े राजनीतिक मोर्चों की बात करें तो अभी तक करीब 325 टिकट वितरित किए जा चुके हैं, जिनमें केवल 26 ही महिलाएं चुनाव में उम्मीदवार घोषित की गई हैं. हालांकि राजनीतिक दलों ने महिलाओं को 50 फीसदी से ज्यादा टिकट देने का दावा किया था.

यह भी पढ़ें: क्या पश्चिम बंगाल में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से ‘अलग लाइन’ खींच रहे हैं उनके भतीजे और टीएमसी महासचिव अभिषेक? जानिए क्यों उठा ये सवाल

अभी तक कांग्रेस ने जितने भी उम्मीदवारों के नाम घोषित किए हैं, उनमें केवल 9 महिलाएं हैं. आम आदमी पार्टी ने भी अभी तक के घोषित 112 उम्मीदवारों में से 12 ही महिलाओं को टिकट दिया है. अकाली दल की 94 उम्मीदवारों की सूची में केवल चार ही महिलाएं अपना नाम दर्ज करवा पाईं हैं. संयुक्त समाज मोर्चा ने अपने 30 उम्मीदवारों के नाम घोषित किए हैं जिनमें मात्र एक महिला को टिकट दिया गया है.

राजनीति में कामयाब महिलाएं
कांग्रेस की वरिष्ठ नेता राजिंदर कौर भट्ठल  1996 पंजाब की पहली मुख्यमंत्री बनी थीं. भट्‌ठल पंजाब की पहली महिला उपमुख्यमंत्री भी रह चुकी हैं. डॉ. उपिंदरजीत कौर पहली वित्त मंत्री बनी थीं. उन्होंने शिरोमणि अकाली दल से 1997 से 2007 तीन बार चुनाव जीता था. और उन्हें आजाद भारत की पहली महिला वित्त मंत्री बनने का गौरव प्राप्त हुआ है. इसके बाद रजिया सुल्तान को पहली मुस्लिम कैबिनेट मंत्री होने का खिताब प्राप्त है. रजिया सुल्तान 2002 से 2017 तक कांग्रेस से तीन बार विधायक बनी हैं.

Tags: Assembly elections, Punjab Assembly Election 2022

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर