पंजाब ने की कोरोना थर्ड वेव से बच्चों को बचाने की तैयारी, CM अमरिंदर ने बनाया बाल चिकित्सा पैनल

कहा जा रहा है कि कोरोना की तीसरी लहर में बच्‍चों को सबसे ज्‍यादा खतरा है.

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) ने कोरोना की तीसरी लहर (Coronavirus) से निपटने के लिए एक डिटेल एक्शन प्लान तैयार करने की बात कही है. मुख्यमंत्री ने कहा कि बाल रोग विशेषज्ञों की टीम मिलकर एक ट्रिटमेंट प्रोटोकॉल तैयार करेगी. इस समूह में सरकारी मेडिकल कॉलेज, स्वास्थ्य विभाग और चंडीगढ़ स्थित स्नातकोत्तर चिकित्सा शिक्षा व अनुसंधान संस्थान के विशेषज्ञ शामिल होंगे.

  • Share this:
    चंडीगढ़. कोरोना वायरस की तीसरी लहर को लेकर कई तरह की हलचल है. कहा जा रहा है कि इस लहर में बच्‍चों को सबसे ज्‍यादा खतरा है. बच्‍चे ही सबसे ज्‍यादा संक्रमित होंगे और उनके गंभीर रूप से बीमार होने का रिस्‍क है. इस बीच पंजाब सरकार ने कोरोना की संभावित तीसरी लहर से लड़ने की तैयारी शुरू कर दी है. मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) ने बाल चिकित्सा पैनल का गठन किया है.

    पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए एक डिटेल एक्शन प्लान तैयार करने की बात कही है. मुख्यमंत्री ने कहा कि बाल रोग विशेषज्ञों की टीम मिलकर एक ट्रिटमेंट प्रोटोकॉल तैयार करेगी. इस समूह में सरकारी मेडिकल कॉलेज, स्वास्थ्य विभाग और चंडीगढ़ स्थित स्नातकोत्तर चिकित्सा शिक्षा व अनुसंधान संस्थान के विशेषज्ञ शामिल होंगे.

    पीएम मोदी की घोषणा के बाद वैक्सीन नीति में होंगे ये बड़े बदलाव, गरीबों और छोटे अस्पतालों का रखा जाएगा खास ध्यान- रिपोर्ट

    तीन दिनों के लिए ऑक्सीजन स्टोरेज रखें अस्पताल
    मुख्यमंत्री ने कोरोना वायरस संक्रमण की संभावित अगली लहर से लड़ने के लिए अस्पतालों और मेडिकल कॉलेजों को कई निर्देश भी दिए हैं. उन्होंने कहा कि सभी सरकारी मेडिकल कॉलेज कम से कम तीन दिनों के लिए ऑक्सीजन का स्टोरेज रखें. कैप्टन सिंह ने कहा कि सभी सरकारी अस्पतालों में पाइप्ड O2 उपलब्ध कराई जानी चाहिए. राज्य के पास किसी भी समय कम से कम 375 मीट्रिक टन ऑक्सीजन उपलब्ध होनी चाहिए.
    कोरोना जांच के लिए मशीनों की संख्या बढ़ाएं
    सीएम अमरिंदर सिंह ने अधिकारियों से राज्य भर में आईसीयू, ऑक्सीजन क्षमता, बुनियादी ढांचे और मैन पावर बढ़ाने के अलावा, बच्चों की कोरोना जांच के लिए आरटी-पीसीआर मशीनों की संख्या में बढोत्तरी करने का भी आदेश दिया. तीसरी लहर से निपटने के लिए मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने उपकरणों और डॉक्टरों, विशेषज्ञों, नर्सों की भर्ती आदि के अलावा अन्य संबंधित निर्देश दिये.

    COVID-19 New Variant: भारत में मिला कोरोना वायरस का नया वेरिएंट, गंभीर रूप से कर सकता है बीमार- रिपोर्ट

    पंजाब में बढ़ा लॉकडाउन
    बता दें कि प्रदेश सरकार ने सोमवार को कोरोना लॉकडाउन 15 जून तक के लिए बढ़ा दिया है. इस दौरान प्राइवेट ऑफिस और दुकानों को ढील दी जाएगी. राज्य सरकार के अनुसार, दुकानों को शाम 6 बजे तक खोलने की अनुमति होगी और प्राइवेट ऑफिस 50% क्षमता के साथ काम करेंगे. इस बीच, नाइट कर्फ्यू रोजाना शाम 7 बजे से सुबह 6 बजे तक चलेगा. जबकि वीकेंड लॉकडाउन पहले की ही तरह चलेगा.