अपना शहर चुनें

States

पंजाब निकाय चुनाव: अकाली और बीजेपी साफ, राज्य में कांग्रेस का यूं बजा डंका

पंजाब निकाय चुनाव में कांग्रेस का दबदबा. (MSBADAL Twitter/17 Feb 2021)
पंजाब निकाय चुनाव में कांग्रेस का दबदबा. (MSBADAL Twitter/17 Feb 2021)

Punjab Election Result 2021: स्थानीय निकाय के लिए 14 फरवरी को मतदान कराया गया था, जिसमें 70 फीसदी से अधिक लोगों ने मताधिकार का इस्तेमाल किया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 17, 2021, 5:58 PM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. कृषि कानूनों को लेकर बड़ी संख्या में किसानों के विरोध का असर पंजाब के निकाय चुनाव के नतीजों में भी देखने को मिला है. जहां सत्तारूढ़ कांग्रेस ने नगर निकायों के चुनाव में सात में से छह नगर निगम की सीटों पर जीत हासिल की है, जबकि भाजपा का सूपड़ा साफ दिखाई दे रहा है. निकाय चुनाव के परिणाम बुधवार को घोषित किए गए. एक अधिकारी ने इसकी जानकारी दी. आधिकारिक खबरों के अनुसार कांग्रेस ने प्रदेश के बठिंडा, होशियारपुर, कपूरथला, अबोहर, बटाला एवं पठानकोट नगर निगम में जीत हासिल की है.


सातवें नगर निगम के चुनाव का परिणाम देर शाम तक सामने आने की संभावना है. एक अन्य नगर निगम में मतगणना का काम बृहस्पतिवार को प्रारंभ होगा. वहीं, भारतीय जनता पार्टी की अगुआई वाली केंद्र की राजग सरकार के खिलाफ जारी किसान आंदोलन की पृष्ठभूमि में हुए इन चुनावों का परिणाम कांग्रेस के लिए किसी प्रोत्साहन से कम नहीं है. कांग्रेस की नजर प्रदेश में अगले साल की शुरुआत में होने वाले विधानसभा चुनाव जीतने पर भी है.


विवादित केंद्रीय कृषि कानूनों को लेकर किसानों के विरोध का सामना कर रही भाजपा भी मैदान में थी. यह शिरोमणि अकाली दल के बिना दो दशकों में पहली बार चुनाव लड़ रही है. शिरोमणि अकाली दल एनडीए का सबसे पुराना सहयोगी है, जिसने कृषि कानूनों को लेकर गठबंधन से किनारा कर लिया था. कस्बों और शहरों के स्थानीय मुद्दे भी चुनाव प्रचार के दौरान हावी रहे थे.


शिरोमणि अकाली दल, आम आदमी पार्टी एवं भारतीय जनता पार्टी को नगर निगम चुनावों में बड़ा झटका लगा है. पंजाब प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने कहा कि प्रदेश की जनता ने भाजपा, शिअद एवं आप की ‘नकारात्मक राजनीति’ को खारिज कर दिया है. जाखड़ ने संवादददाताओं से कहा, 'हमने विकास के एजेंडे पर चुनाव लड़ा. इस जीत से हमारे कार्यकर्ताओं को और अधिक कठिन मेहनत करने की प्रेरणा मिलेगी.' प्रदेश निर्वाचन आयोग ने मोहाली नगर निगम के दो मतदान केंद्रों पर दोबारा मतदान कराने के निर्देश दिए थे। इसलिए, मोहाली स्थानीय निकाय के लिए मतों की गिनती बृहस्पतिवार को होगी.



इस चुनाव की खास बात यह रही कि पांच दशक में पहली बार बठिंडा नगर निगम पर कांग्रेस ने जीत हासिल की है. पहले से काबिज शिरोमणि अकाली दल को यहां करारी शिकस्त झेलनी पड़ी है. पिछले 53 साल में ऐसा पहली बार होगा कि यहां का मेयर कांग्रेस पार्टी से चुनकर आएगा.







स्थानीय निकाय के लिए 14 फरवरी को मतदान कराया गया था, जिसमें 70 फीसदी से अधिक लोगों ने मताधिकार का इस्तेमाल किया था. 2302 वार्डों के लिए कुल 9222 उम्मीदवार मैदान में थे. यह चुनाव परिणाम ऐसे समय में सामने आए हैं, जब केंद्रीय कृषि कानूनों के विरोध में नवंबर से दिल्ली की सीमाओं पर हजारों किसान डेरा डाले हुए हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज