कोरोना की रफ्तार ने फिर बढ़ाई टेंशन, पंजाब के जालंधर में नाइट कर्फ्यू

डीसी घनश्याम थोरी ने कहा कि कोरोना के खतरे से निपटने के लिए लोगों को प्रशासन का सहयोग करना चाहिए.

डीसी घनश्याम थोरी ने कहा कि कोरोना के खतरे से निपटने के लिए लोगों को प्रशासन का सहयोग करना चाहिए.

Jalandhar Imposes Night Curfew: जालंधर में शनिवार से रात 11 बजे से सुबह पांच बजे तक कर्फ्यू लगा रहेगा. इस दौरान लोगों को बेवजह घर से बाहर निकलने पर पाबंदी रहेगी.

  • Share this:
चंडीगढ़. वैक्सीनेशन के बीच देश के कई क्षेत्रों में एक बार फिर से कोरोना वायरस (Coronavirus) के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. पंजाब में भी कोरोना के केस बढ़ने लगे हैं. संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए जालंधर में नाइट कर्फ्यू लगाने का फैसला लिया गया है. न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, जालंधर में शनिवार से रात 11 बजे से सुबह पांच बजे तक कर्फ्यू (Jalandhar Night Curfew) लगा रहेगा. इस दौरान लोगों को बेवजह घर से बाहर निकलने पर पाबंदी रहेगी. नाइट कर्फ्यू में सिर्फ जरूरी सेवाओं की छूट रहेगी. हालांकि ये नाइट कर्फ्यू कब तक रहेगा इसके बारे में कोई आधिकारिक जानकारी नहीं मिली है.

डीसी घनश्याम थोरी ने कहा कि कोरोना के खतरे से निपटने के लिए लोगों को प्रशासन का सहयोग करना चाहिए. महानगर में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले अभी थम नहीं रहे हैं. चिंता की बात है कि सबसे ज्यादा नए पॉजिटिव केस स्कूली बच्चों में सामने आ रहे हैं.

Youtube Video




तमिलनाडु में 31 मार्च तक लॉकडाउन
फरवरी महीने के अंतिम दिन तमिलनाडु सरकार ने राज्य में 31 मार्च तक लॉकडाउन को बढ़ाने का फैसला लिया. हालांकि, राज्य में कोई नए कड़े नियम लागू नहीं किए गए, बल्कि केंद्र सरकार की गाइडलाइंस के तहत ही कदम उठाए गए हैं. प्रशासन को कोरोना नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्ती से कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है.

कोरोना संक्रमण से डेढ़ लाख से ज्यादा लोगों की मौत
देश में संक्रमण से अब तक कुल 1,57,656 मौतें हुई हैं, जिनमें महाराष्ट्र से 52,393 , तमिलनाडु से 12,513, कर्नाटक से 12,354, दिल्ली से 10,918, पश्चिम बंगाल से 10,275, उत्तर प्रदेश से 8,729 और आंध्र प्रदेश से 7,172 मरीज शामिल हैं.

ये भी पढ़ेंः- उत्तर प्रदेश के बाहर भी अब प्रियंका गांधी का होगा ताबड़तोड़ चुनावी दौरा

Youtube Video


स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि जिन मरीजों की मौत हुई है उनमें से 70 प्रतिशत से अधिक मरीज अन्य बीमारियों से भी पीड़ित थे. मंत्रालय ने अपनी वेबसाइट में कहा कि उसके आंकड़ों का मिलान आईसीएमआर से किया जा रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज