अपना शहर चुनें

States

पंजाब निकाय चुनाव: इस वजह से भाजपा मैदान में उतार पाई सिर्फ दो-तिहाई उम्मीदवार

Punjab Local Body Election
Punjab Local Body Election

Punjab Local Body Election: कृषि कानून को लेकर बीजेपी और अकाली दल के बीच सालों से चल रहा गठबंधन भी टूट चूका है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 7, 2021, 3:34 PM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. भाजपा निकाय चुनाव में दो तिहाई सीटों पर उम्मीदवार तक नहीं ढूंढ पाई है. पंजाब में 14 फरवरी को होने वाले नगर निकाय चुनावों में कुल 9,222 उम्मीदवार मैदान में हैं. राज्य चुनाव आयोग के प्रवक्ता ने बताया कि 8 नगर निगम, 109 नगर पालिका परिषद एवं नगर पंचायत चुनाव के लिए 15,305 उम्मीदवारों ने नामांकन दाखिल किया था. राज्य चुनाव कार्यालय के मुताबिक, कुल 9,222 उम्मीदवारों में से 2,832 प्रत्याशी निर्दलीय हैं. राज्य में सत्तारूढ़ कांग्रेस के 2,037 उम्मीदवार, अकाली दल के 1,569, भाजपा के 1,003 ,जबकि आम आदमी पार्टी के 1,606 उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं. मतगणना 17 फरवरी को होगी.

भाजपा निकाय चुनाव में सबसे कम उम्मीदवार मैदान में उतार पाई है. किसान आंदोलन के कारण भाजपा को पूरे पंजाब में लोगों का आक्रोश झेलना पड़ रहा है. जनवरी से लेकर एक दर्ज से ज्यादा भाजपा के नेताओं ने पार्टी से अपना दामन छुड़वा लिया है. पार्टी छोड़ने वाले नेताओं में भाजपा के बड़े सिख चेहरे मलविंदर सिंह कंग का नाम भी शामिल है.

भाजपा के नेताओं को पंजाब में किसान आंदोलनकारी का सामना करना पड़ रहा है. यह किसान भाजपा की कई तिरंगा यात्राओं को भी स्थगित करवा चुके हैं. कई नेताओं ने अपनी गाड़ियों से भाजपा का झंडे भी उतार दिए हैं, क्यों दिखते ही किसान आंदोलनकारी इनका पीछा करने लगते हैं. भाजपा के बड़े नेताओं को अक्टूबर के महीने से ही किसानों के विरोध का सामना करना पड़ रहा है.

कृषि कानून को लेकर बीजेपी और अकाली दल के बीच सालों से चल रहा गठबंधन भी टूट चूका है. हालाँकि पहले भी बीजेपी अकाली दल के छोटे भाई होने के नाते ही चुनाव लडती थी. दिल्ली की सीमा पर पिछले दो महीनों से भी अधिक समय से चल रहे आंदोलन को लेकर पंजाब में भाजपा को भयंकर नुकसान उठाना पड़ सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज