अमृतसर: ट्रेन हुई कैंसिल तो मजदूरों ने लगाया रोड पर जाम, किया प्रदर्शन
Chandigarh-Punjab News in Hindi

अमृतसर: ट्रेन हुई कैंसिल तो मजदूरों ने लगाया रोड पर जाम, किया प्रदर्शन
अमृतसर में विरोध प्रदर्शन करते मजदूर

पंजाब (Punjab) के अमृतसर (Amritsar) में बायपास रोड पर मजदूरों ने जाम लगा दिया. उनका आरोप है कि जांच कर ली गई. हमें बस से भेजा गया और फिर यहां आकर पता चला कि ट्रेन कैंसिल हो गई.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus के चलते लागू लॉकडाउन (Lockdown) में परेशान मजदूर अब सड़कों पर उतरने को मजबूर हैं. शुक्रवार को पंजाब में कुछ ऐसा ही हुआ. अमृतसर में बायपास रोड पर मजदूरों ने जाम लगा दिया. उनका आरोप है कि जांच कर ली गई. हमें बस से भेजा गया और फिर यहां आकर पता चला कि ट्रेन कैंसिल हो गई. अब हम रोड पर रहने को मजबूर हैं.'

समाचार एजेंसी ANI के अनुसार प्रवासियों में से एक पुलकित ने कहा कि 'कल ही हमारी हेल्थ स्क्रीनिंग हुई थी. हम एक बस में भी सवार हुए, लेकिन बताया गया कि हमारी ट्रेन रद्द कर दी गई है. हम अब सड़क पर रहने को मजबूर हैं. हम सरकार से अनुरोध करते हैं कि वह हमें घर भेजे.'

बता दें लॉकडाउन के चलते मजदूर शहरों से अपने घरों की ओर पैदल ही लौटने लगे. इसके बाद गृह मंत्रालय ने भारतीय रेलवे को निर्देश दिया कि वह विशेष श्रमिक ट्रेने चलाए. 1 मई से शुरू हुई यह ट्रेनें विशेष रूप से श्रमिकों के लिए चलाई गईं. रेलवे का दावा है कि 1 मई, 2020 से ही श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में यात्रा करने वाले लगभग 50 लाख प्रवासियों को 85 लाख से भी अधिक ‘मुफ्त भोजन’ और लगभग 1.25 करोड़ ‘मुफ्त पानी की बोतलें’ वितरित की हैं.



इसमें भारतीय रेलवे के पीएसयू आईआरसीटीसी द्वारा तैयार किए जा रहे और जोनल रेलवे द्वारा वितरित किए जा रहे भोजन शामिल हैं. सभी श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में यात्रा कर रहे प्रवासियों को भोजन और पानी की बोतलें उपलब्‍ध कराई जा रही हैं.






अब तक चलीं 736 ट्रेनें
गुरुवार को रेलवे द्वारा जारी की गई एक विज्ञप्ति के अनुसार 28 मई 2020 तक देश भर के विभिन्न राज्यों से 3736 ‘श्रमिक स्पेशल’ ट्रेनें चलाई गई हैं, जबकि लगभग 67 ट्रेनें पाइपलाइन में हैं. 27 मई 2020 को 172 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें रवाना की गईं. अब तक 27 दिनों में लगभग 50 लाख प्रवासियों को श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के माध्यम से उनके गृह राज्‍यों में ले जाया गया है.

ये 3736 ट्रेनें विभिन्न राज्यों से रवाना हुई थीं. जिन शीर्ष पांच राज्यों/केन्द्र शासित प्रदेशों से अधिकतम ट्रेनें रवाना हुई हैं, उनमें गुजरात (979 ट्रेनें), महाराष्ट्र (695 ट्रेनें), पंजाब (397 ट्रेनें), उत्तर प्रदेश (263 ट्रेनें) और बिहार (263 ट्रेनें) शामिल हैं.

रेलवे ने कहा कि इन ‘श्रमिक स्पेशल’ ट्रेनों का परिचालन देश भर के विभिन्न राज्यों में समाप्त हुआ. जिन शीर्ष पांच राज्यों में अधिकतम ट्रेनों का परिचालन समाप्त हुआ है, उनमें उत्तर प्रदेश (1520 ट्रेनें), बिहार (1296 ट्रेनें), झारखंड (167 ट्रेनें), मध्य प्रदेश (121 ट्रेनें) और ओडिशा (139 ट्रेनें) शामिल हैं. श्रमिक स्‍पेशल ट्रेनों के अलावा, रेलवे नई दिल्ली से जुड़ने वाली 15 जोड़ी स्पेशल ट्रेनें चला रही है. रेलवे ने समय सारणी के अनुसार 1 जून से 200 और ट्रेनें चलाने की योजना बनाई है.

First published: May 29, 2020, 9:04 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading