Home /News /punjab /

punjab mlas development as like delhi mla fund cm bhagwant mann

दिल्ली की तर्ज पर पंजाब के विधायकों को मिलेगा फंड! जानिए दिल्ली में एक विधायक को कितना मिलता है

पंजाब के सीएम भगवंत मान एमएलए फंड को बढ़ाना चाहते हैं.  (फाइल फोटो)

पंजाब के सीएम भगवंत मान एमएलए फंड को बढ़ाना चाहते हैं. (फाइल फोटो)

Punjab MLA development fund: पंजाब के विधायकों को विकास के लिए अब दिल्ली की तर्ज पर फंड मिलेगा. हालांकि पंजाब सरकार गंभीर धन संकट का सामना कर रही है, लेकिन पंजाब के सीएम भगवंत मान (Punjab CM Bhagwant Mann) विधायकों के लिए फंड बढ़ाने के पहले से समर्थक रहे हैं. सीएम भगवंत मान के एक सहयोगी ने कहा कि सांसदों के विपरीत पंजाब में विधायकों के पास अपना खुद का फंड नहीं है जिसे वे अपने संबंधित निर्वाचन क्षेत्र में उपयोग कर सकें.

अधिक पढ़ें ...

    चंडीगढ़. पंजाब में विधायकों (MLAs in Punjab) को सशक्त बनाने के लिए आम आदमी पार्टी सरकार (AAP government) दिल्ली सरकार की तर्ज पर विधायक स्थानीय क्षेत्र विकास (MLALAD) योजना (MLA Local Area Development scheme) शुरू करेगी. एमएलए एलएडी योजना के तहत दिल्ली में एक विधायक को अपने क्षेत्र में विकास कार्य करने के लिए एक वित्तीय वर्ष में 10 करोड़ रुपये स्वीकृत किए जाते हैं. तुलनात्मक रूप से सांसदों (सांसदों) को एमपीलैड योजना के तहत सालाना 5 करोड़ रुपये मिलते हैं. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि मुख्यमंत्री भगवंत मान एमएलए एलएडी योजना के तहत प्रत्येक विधायक के लिए सालाना 10 करोड़ रुपये अलग करना चाहते हैं.

    हालांकि पंजाब सरकार गंभीर धन संकट का सामना कर रही है, लेकिन पंजाब के सीएम भगवंत मान (Punjab CM Bhagwant Mann) विधायकों के लिए फंड बढ़ाने के पहले से समर्थक रहे हैं. सीएम भगवंत मान के एक सहयोगी ने कहा कि सांसदों के विपरीत पंजाब में विधायकों के पास अपना खुद का फंड नहीं है जिसे वे अपने संबंधित निर्वाचन क्षेत्र में उपयोग कर सकें.

    दिल्ली में इतना फंड

    सीएम भगवंत मान के सहयोगी ने कहा, ‘फिलहाल पंजाब में विधायकों को फंड के लिए मुख्यमंत्री की ओर देखते रहना पड़ता है. विपक्ष में रहने वालों को आमतौर पर ज्यादा कुछ नहीं मिलता. अगर उन्हें हर साल 10 करोड़ रुपये मिलते हैं, तो वे अपने क्षेत्र में विकास कर सकते हैं.’ एक अन्य विधायक ने कहा कि मान ने दिल्ली सरकार से सीख ली है. राष्ट्रीय राजधानी में AAP सरकार ने फंड को 4 करोड़ रुपये से बढ़ाकर 10 करोड़ रुपये कर दिया है. देश में कई राज्यों में एमएलए एलएडी योजना काम कर रही है. पंजाब के विधायकों द्वारा भी इसी तरह की योजना की मांग की गई है जिसके तहत फंड को अलग रखा गया है. सहयोगी ने बताया, ‘पूर्व में पंजाब में सीएम कभी नहीं चाहते थे कि विधायक अपने दम पर कुछ करें. उन्हें इस तरह के फंड से वंचित करना उनके अधीन रहने का एक तरीका था.’

    एक पेंशन स्कीम लाना चाहते हैं सीएम मान

    इस महीने की शुरुआत में, हिमाचल प्रदेश सरकार ने राज्य का बजट पेश करते हुए एमएलए एलएडी फंड को मौजूदा 1.80 करोड़ रुपये से बढ़ाकर 2 करोड़ रुपये करने की घोषणा की थी. 2017 में भाजपा सरकार के सत्ता में आने के बाद राज्य ने MLALAD फंड में कुल 90 लाख रुपये की वृद्धि दर्ज की है. मान विधायकों के हर कार्यकाल के लिए पेंशन की प्रथा को खत्म करने पर भी काम कर रहे हैं और एक विधायक के लिए एक पेंशन किए जाने की संभावना है. पंजाब में, विधायकों को प्रत्येक कार्यकाल के लिए 75,000 रुपये प्रति माह की दर से पेंशन मिलती है. पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल पहले ही सरकार को पत्र लिख चुके हैं कि वह कोई पेंशन नहीं लेंगे और इसे सार्वजनिक कार्यों में इस्तेमाल किया जाए.

    Tags: Arvind kejriwal, Bhagwant Mann, MLA, Punjab

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर