पंजाब में घरेलू बिजली दरों में राहत, 300 यूनिट तक 50 पैसे से 1 रुपए की कमी

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह. (पीटीआई फाइल फोटो)

Punjab Relief in domestic electricity rates: नई दरों के लागू होने से 2 किलोवाट लोड से लेकर 7 किलोवाट तक के घरेलू उपभोक्ताओं को अलग-अलग कैटेगरी में 50 पैसे से 1 रुपए तक का लाभ होगा.

  • Share this:
    चंडीगढ़. पंजाब स्टेट बिजली रेगुलेटरी कमीशन (Punjab State Electricity Regulatory Commission) के द्वारा लगातार दूसरे साल घरेलू बिजली दरों में कमी की गई है. राज्य बिजली रेगुलेटरी आयोग का नया टैरिफ 1 जून से 31 मार्च 2022 तक लागू रहेगा. इसके लागू होने से 2 किलोवाट लोड से लेकर 7 किलोवाट तक के घरेलू उपभोक्ताओं (Domestic consumers) को अलग-अलग कैटेगरी में 50 पैसे से 1 रुपए तक का लाभ होगा, जबकि 7 किलोवाट से ऊपर की कैटेगरी वालों को पहले से अधिक पैसे चुकाने होंगे.

    300 यूनिट से अधिक खर्च करने वालों को पहले जैसा साधारण चार्ज लगेगा. पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Punjab Chief Minister Captain Amarinder Singh) ने कहा है कि घरेलू बिजली दरों में 50 पैसे से लेकर एक रुपए प्रति यूनिट तक की बड़ी कमी घरेलू खपतकारों को बड़ी राहत दिलाएगी, खास कर गरीबों को जोकि पहले ही कोविड महामारी के चलते वित्तीय कठिनाईयों का सामना कर रहे हैं.

    लगातार दूसरे साल हुई दरों में कमी
    यह लगातार दूसरा साल है जब राज्य में घरेलू खपतकारों के लिए बिजली दरें घटाईं गई हैं. 2020 में भी रेगुलेटरी की तरफ से घरेलू बिजली दरें 50 पैसे प्रति यूनिट घटाई गई थी. मुख्यमंत्री ने कहा कि पंजाब स्टेट बिजली रेगुलेटरी कमीशन की तरफ से घरेलू दरें घटाने के किये फैसले से राज्य में 69 लाख घरेलू खपतकारों को 682 करोड़ रुपए की राहत मिलेगी. उन्होंने इसके साथ ही कमीशन की तरफ से कोविड महामारी के चलते व्यापारिक खपतकारों के साथ-साथ लघु और मध्यम उद्योगों के लिए दरें न बढ़ाने के फैसले की भी सराहना की है.

    उन्होंने कहा कि यहां तक कि औद्योगिक खपतकारों के लिए भी दरों में मामूली विस्तार किया गया है. इससे उद्योगों को राहत मिलेगी जो पहले ही लॉकडाउन और महामारी के कारण मांग में आए संकट के कारण बुरी तरह प्रभावित हुए हैं. सरकार ने अपने चुनावी वायदे पर अमल करते हुए उद्योगों को सब्सिडी दरों पर बिजली देने के फैसले का ऐलान किया था और उद्योगों को राज्य सरकार की तरफ से 2017 से बिजली सब्सिडी मिलती है जब दर परिवर्तनीय कीमत पर 5 रुपए प्रति यूनिट तक घटा दी थी.