• Home
  • »
  • News
  • »
  • punjab
  • »
  • PUNJAB ROBBERS TOOK THE FAMILY HOSTAGE BY DOING A FAKE CBI RAID RAN AWAY WITH 35 TOLAS OF GOLD AND 4 LAKHS PUNSS

पंजाब: लुटेरों ने फर्जी CBI रेड कर परिवार को बनाया बंधक, 35 तोले सोना और 4 लाख लेकर हुए फरार

पुलिस मामले की छानबीन में जुट गई है. (सांकेतिक फोटो)

Punjab Fake CBI Raid: सातों लोग दो इनोवा कारों में सवार होकर आए थे. लुटेरों के फरार हाने के बाद परिवार के सदस्यों ने खिड़की से बाहर निकल कर घटना की सूचना पुलिस को दी.

  • Share this:

    चंडीगढ़. पंजाब में गुरदासपुर (Gurdaspur in Punjab) के डीडा सांसियां गांव में 7 लुटेरों ने फर्जी सीबीआई रेड (Fake CBI raid) करके एक परिवार को घर के अंदर बंधक (Hostage) बना लिया. इसके बाद आरोपियों ने करीब डेढ़ घंटे तक घर खंगाला और 35 तोले सोना, चार लाख रुपए कैश और सात मोबाइल लेकर फरार हो गए. पुलिस ने मामला दर्ज आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है.


    ऐसे दिया घटना को अंजाम
    पुलिस से प्राप्त जानकारी के मुताबिक गांव डीडा सांसियां में दो इनोवा कारो में आए 7 लोग गेट फांद कर एक घर में दाखिल हुए. मेन डोर नॉक करने के बाद घर की बुजुर्ग महिला शिमला देवी ने जब दरवाजा खोला तो सामने एक महिला सहित चार लोग खड़े थे. इन  लोगों ने कहा कि आप लोग चिट्‌टा बेचते हो इसलिए चंडीगढ़ (Chandigarh) से आपके यहां सीबीआई की रेड है. रेड के बहाने घर में घुसकर कर लुटेरों ने पूरे परिवार को गन प्वाइंट (Gun point) पर एक जगह बिठा दिया इस दौरान इन लुटेरों के तीन साथी भी घर के अंदर दाखिल हो गए.


    सात मोबाइल भी ले गए साथ
    इन लोगों ने पूरी घर की तलाशी ली और घर में रखे 35 तोले के जेवरात और 4 लाख रुपए कैश इनके हाथ लग गया. जाते हुए लुटेरे अपने साथ परिवार के सदस्यों के 7 मोबाइल भी ले गए. फरार होने के बाद लुटेरों ने घर को बाहर से लॉक कर दिया था. बताया जा रहा है कि सातों लोग दो इनोवा कारों में सवार होकर आए थे. लुटेरों के फरार हाने के बाद परिवार के सदस्यों ने खिड़की से बाहर निकल कर घटना की सूचना पुलिस को दी.




    पुलिस को दी शिकायत में घर की मालकिन रोजी ने बताया कि घर में उनके अलावा सास शिमला देवी, बहू शीतल, बेटा नीतिश, भाई तेजिंदर, दो भतीजे और एक भतीजी मौजूद थे. रोजी ने बताया कि फर्जी सीबीआई के अधिकारियों को उन्होंने कहा कि सरपंच को बुलाकर उसकी मौजूदगी में तलाशी लें तो वे एसएसपी गुरदासपुर और एक अन्य पुलिस अफसर का नाम लेकर धमकाने लगे.