Punjab Corona: 8 दिनों में गावों के एक लाख से अधिक व्यक्तियों के कोरोना टेस्ट, 4654 लोग पॉजिटिव

पंजाब के एक गांव में लोगों की कोरोना जांच करते स्वास्थ्यकर्मी.

पंजाब के एक गांव में लोगों की कोरोना जांच करते स्वास्थ्यकर्मी.

Punjab Coronavirus: राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में कुल 246 गर्भवती महिलाएं (Pregnant women) कोविड पॉजिटिव पाई गईं हैं.

  • Share this:

चंडीगढ़. पंजाब सरकार (Punjab government) ने करीब आठ दिनों में मिशन फतेह 2.0 (Mission Fateh 2.0) के तहत 51.6 लाख घरों का सर्वेक्षण करने का दावा किया है. इस दौरान स्क्रीनिंग ड्राइव के अंतर्गत कोविड-19 के लिए कुल 1,37,281 व्यक्तियों का टेस्ट लिया गया है, जिनमें से 4654 का टेस्ट पॉजिटिव (Covid positive) पाया गया है. राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में कुल 246 गर्भवती महिलाएं (Pregnant women) कोविड पॉजिटिव पाई गईं हैं, जबकि इन गर्भवती महिलाओं की रोजमर्रा की निगरानी राज्य के मुख्य कार्यालय की तरफ से की जा रही है.

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू (Health and Family Welfare Minister Balbir Singh Sidhu) ने बताया कि आशा वर्करों की तरफ से 1.95 करोड़ की आबादी वाले कुल 51.6 लाख घरों का सर्वेक्षण किया गया है. उन्होंने कहा कि लोगों ने स्वास्थ्य विभाग पर भरोसा जताया है और कोविड-19 के शुरुआती पड़ाव के दौरान इलाज करवाने के लिए टेस्ट की खातिर आगे आ रहे हैं.

दिल्ली-एनसीआर में बढ़ा MIS-C का कहर, 177 बच्चों में हुई बीमारी की पुष्टि

उन्होंने कहा कि घरेलू एकांतवास वाले सभी 4095 मरीजों को मिशन फतेह किट मुहैया करवाई गई है, जबकि 559 मरीजों को एल 2 व एल 3 की सुविधा दी गई है. स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि कोविड पॉजिटिव गर्भवती महिलाओं के लिए आज एक विशेष हेल्पलाइन नंबर (0172 -2744041, 2744040) शुरू किया गया है जो रोजमर्रा के प्रात: काल 9 बजे से शाम 5 बजे तक कार्यशील रहेगा.


स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि भारत सरकार स्वास्थ्य मंत्रालय (Ministry of Health of the Government of India) के अनुसार घरेलू एकांतवास के अधीन मरीज के एकांतवास की समय-सीमा तब खत्म होगी जब लक्षण सामने आने के बाद कम से कम 10 दिन बीत जाएं. घरेलू एकांतवास की समय-सीमा खत्म होने के बाद टेस्टिंग की कोई ज़रूरत नहीं है. उन्होंने कहा कि 60 साल से अधिक उम्र के बुज़ुर्ग मरीज़ों और सह-रोगों जैसे उच्च रक्तचाप, मधुमेह, हृदय रोग, फेफड़ों/जिगर/गुर्दे की बीमारी आदि वाले व्यक्तियों का इलाज कर रहे मेडिकल अधिकारी द्वारा उचित मुल्यांकन के बाद ही घरेलू एकांतवास की आज्ञा दी जाएगी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज