अपना शहर चुनें

States

पंजाब: कैप्टन सरकार का बड़ा कदम, सरकारी नौकरियों में महिलाओं को मिलेगा 33% आरक्षण

सीएम अमरिंदर सिंह की फाइल फोटो
सीएम अमरिंदर सिंह की फाइल फोटो

Punjab Updates: बीते अक्टूबर में कैबिनेट ने इस नियम पर मुहर लगा दी थी. सरकार के इस फैसले को ऐतिहासिक बताते हुए मंत्री अरुणा चौधरी ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (CM Captain Amarinder Singh) और मंत्रियों का आभार जताया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 7, 2021, 1:29 PM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. पंजाब (Punjab) में महिलाओं को लेकर सरकार ने बड़ा कदम उठाया है. राज्य में सरकारी नौकरियों में अब महिलाओं को 33 प्रतिशत आरक्षण मिलेगा (Reservation for Women). सरकार ने इसके संबंध में अधिसूचना जारी कर दी है. इसके साथ ही सरकार ने बुधवार को सरकारी विभागों में पत्र के जरिए इस नई व्यवस्था को लागू करने के निर्देश दिए हैं.

पंजाब सरकार के पंजाब सिविल सेवाएं (पदों में महिलाओं के लिए आरक्षण)(प्रथम संशोधन) नियम 2020 के तहत सभी सरकारी विभागों में जनरल, अनुसूचित जाति, बीसी, पूर्व सैनिक, खेल कोटे और आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग की महिला कैंडिडेट्स को 33 फीसदी रिजर्वेशन दिया जाएगा. हालांकि, इस आरक्षण को लेकर सरकार ने फैसला एक साल पहले ही कर लिया था.

बीते अक्टूबर में कैबिनेट ने इस नियम पर मुहर लगा दी थी. सरकार के इस फैसले को ऐतिहासिक बताते हुए मंत्री अरुणा चौधरी ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और मंत्रियों का आभार जताया था. उन्होंने कहा था कि अब राज्य में महिलाओं को रोजगार के और भी ज्यादा मौके मिलेंगे.



चौधरी की तरफ से जारी प्रेस विज्ञप्ती में कहा गया था कि उनकी सरकार घोषणापत्र में किए गए वादों को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है. उन्होंने विज्ञप्ती में कहा था कि आने वाले समय में महिलाओं की स्थिति को और मजबूत करने के लिए कई फैसले लिए जाएंगे. उन्होंने बताया कि इससे पहले पंजाब में महिलाओं को पंचायती राज संस्थाओं और नगर पालिका के चुनावों में 50 फीसदी आरक्षण दिया था.

इसके अलावा सीएम सिंह ने जारी किसान आंदोलनों को लेकर भी एक बड़ा फैसला लिया है. उन्होंने आंदोलनकारियों के खिलाफ लगाए गए हत्या के आरोपों को वापस लेने के आदेश दिए हैं. प्रदर्शन कर रहे कुछ किसानों ने भारतीय जनता पार्टी के नेता के घर के बाहर गोबर डाल दिया था. हालांकि, उस दौरान सिंह ने मामले पर कहा था कि आंदोलन के नाम पर लोगों को प्रताड़ित किया जाना बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज