कुरान शरीफ बेअदबी केस: दिल्ली के AAP विधायक नरेश यादव पंजाब की कोर्ट से बरी

नरेश यादव को कोर्ट ने किया बरी. (Pic- News18)

नरेश यादव को कोर्ट ने किया बरी. (Pic- News18)

संगरूर की जिला अदालत ने दिल्ली के आम आदमी पार्टी के विधायक नरेश यादव (MLA Naresh Yadav) को बरी कर दिया है. नरेश यादव को कुरान शरीफ की बेअदबी के मामले में पुलिस ने आरोपी बनाया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 17, 2021, 9:55 PM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. पंजाब (Punjab) के मालेरकोटला में जून 2016 के कुरान शरीफ की बेअदबी (Quran Sharif Sacrilege Case) के मामले में संगरूर की जिला अदालत ने दिल्ली के आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) के विधायक नरेश यादव (MLA Naresh Yadav) को बरी कर दिया है. नरेश यादव को कुरान शरीफ की बेअदबी के मामले में पुलिस ने आरोपी बनाया था. दोनों पक्षों की सुनवाई के बाद अदालत ने फैसला सुनाते हुए कहा कि नरेश यादव की इस मामले में कोई भूमिका नजर नहीं आ रही है लिहाजा अदालत उन्हें बाइज्जत बरी करती है.

2016 में संगरूर के मालेरकोटला (Malerkotla) में अज्ञात लोगों ने धार्मिक किताब के पन्ने फाड़ कर फेंक दिए थे. इस घटना से पूरे इलाके में तनाव फैल गया था. समुदाय विशेष की भारी भीड़ ने स्थानीय अकाली दल विधायक के घर पर तोड़-फोड़ की थी, जिसके बाद हालात को नियंत्रण में करने के लिए पुलिस को गोलियां भी चलानी पड़ी थीं.

Youtube Video




बाद में इस बेअदबी मामले में 3 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया था. गिरफ्तार लोगों में से एक मुख्य साजिशकर्ता विजय ने आम आदमी पार्टी के दिल्ली के महरौली से विधायक नरेश यादव का नाम पूरी साजिश रचने के लिए लिया था. पंजाब पुलिस को रिमांड के दौरान दिए बयान में कहा है कि इसी विधायक के कहने पर उसने मुस्लिम बहुल मलेरकोटला के इलाके में तनाव फैलाने के लिए किताब के पन्ने फाड़ने की साजिश रची थी.
इसके बाद नरेश यादव को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था. उन पर पुलिस ने आरोप लगाए थे कि उन्होंने कुरान शरीफ की बेअदबी करने की साजिश रची थी. यह मामला सामने आने पर पंजाब में आम आदमी पार्टी की काफी निंदा भी हुई थी. यह मामला काफी चर्चा में भी रहा था. सुनवाई के दौरान नरेश यादव के वकीलों की दलील थी कि नरेश यादव के खिलाफ बेअदबी के कोई पुख्ता सबूत नहीं हैं.

नरेश यादव ने मामले में कहा था कि उनका नाम मुख्य आरोपी विनोद कुमार ने दबाव में आकर लिया था. विनोद कुमार को 302 के झूठे केस में फंसाने की धमकी दी गई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज