Home /News /punjab /

Punjab Election: कांग्रेस ने नियुक्त किए 4 ऑब्जर्वर, सोनिया गांधी ने दी प्रस्ताव को मंजूरी, मालवा क्षेत्र पर खास फोकस

Punjab Election: कांग्रेस ने नियुक्त किए 4 ऑब्जर्वर, सोनिया गांधी ने दी प्रस्ताव को मंजूरी, मालवा क्षेत्र पर खास फोकस

कांग्रेस अध्यक्ष श्रीमति सोनिया गांधी (Image- News18)

कांग्रेस अध्यक्ष श्रीमति सोनिया गांधी (Image- News18)

Sonia appoints 4 observers to keep a close watch on Punjab election: पंजाब में सत्ता में वापसी सुनिश्चित करने के लिए कांग्रेस की कोशिशें जारी है. विधानसभा चुनावों पर पैनी नजर रखने के लिए कांग्रेस आलाकमान ने क्षेत्रवार 4 पर्यवेक्षकों को नियुक्त किया है. इनमें मालवा के लिए दो और दोआबा और माजा के लिए एक-एक ऑब्जर्वर नियुक्त किए गए हैं. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पंजाब में आगामी विधानसभा चुनावों के लिए पार्टी के लिए जिन पर्यवेक्षकों (क्षेत्रवार) की नियुक्ति के प्रस्ताव को तत्काल प्रभाव से मंजूरी दे दी है.

अधिक पढ़ें ...

चंडीगढ़: पंजाब चुनाव (Punjab elections) पर पैनी नजर रखने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने क्षेत्रवार चार पर्यवेक्षकों की नियुक्ति की है. इनमें मालवा (Malwa)के लिए दो और दोआबा (Doaba)और माझा (Majha)के लिए एक-एक ऑब्जर्वर नियुक्त किए गए हैं. मालवा क्षेत्र में पंजाब की 117 सीटों में से 69 सीटें हैं, यही वजह है कि इस क्षेत्र के लिए दो पर्यवेक्षक नियुक्त किए गए हैं.

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पंजाब में आगामी विधानसभा चुनावों के लिए पार्टी के लिए जिन पर्यवेक्षकों (क्षेत्रवार) की नियुक्ति के प्रस्ताव को तत्काल प्रभाव से मंजूरी दे दी है. उनमें संजय निरुपम (Sanjay Nirupam) मालवा क्षेत्र, उत्तम कुमार रेड्डी (Uttam Kumar Reddy) माझा क्षेत्र, सुखविंदर सिंह सुक्खू (Sukhwinder Singh Sukhu) दोआबा क्षेत्र और अर्जुन मोढवाडिया (Arjun Modhwadia) मालवा क्षेत्र की जिम्मेदारी दी गई है.

गौरतलब है कि एक तरफ जहां सत्तारूढ़ कांग्रेस चुनावों से कुछ ही महीने पहले एक नया मुख्यमंत्री बना कर सत्ता में लौटने की फ़िराक में है. वहीं दूसरी तरफ अकाली दल को उम्मीद है कि बहुजन समाज
पार्टी के साथ हाल ही में हुआ गठबंधन उसके लिए सत्ता हासिल करने का एक नया रास्ता बना देगा. पिछले विधानसभा चुनावों में मुख्य विपक्षी पार्टी के तौर पर उभरी आम आदमी पार्टी इस बार विपक्ष से
सत्ता का सफर तय करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रही है.

यह भी पढ़ें: मायावती को लगा एक और तगड़ा झटका, 17 साल बाद बसपा छोड़ BJP में आया यह बड़ा चेहरा

इन सब के बीच निगाहें कैप्टन अमरिंदर सिंह की नई राजनीतिक पार्टी पंजाब लोक कांग्रेस पर भी है जो भारतीय जनता पार्टी और पूर्व केंद्रीय मंत्री सुखदेव सिंह ढींढसा की शिरोमणि अकाली दल (संयुक्त) के साथ मिल कर चुनावी मैदान में उतर रही है. साथ ही ध्यान खींच रही एक नई पार्टी जिसे किसान आंदोलन में शामिल 22 किसान संगठनों ने मिलकर बनाया है और जो वरिष्ठ किसान नेता बलबीर सिंह राजेवाल की अगुवाई में चुनावी मैदान में कूद गई है.

पंजाब विधान सभा में कुल 117 सीटें हैं. 2017 में हुए विधानसभा चुनावों में कैप्टन अमरिंदर सिंह की अगुवाई में कांग्रेस ने इन 117 सीटों में से 77 सीटें जीत कर सरकार बनाई थी. लगातार 10 साल सत्ता में
रहने के बाद अकाली दल 2017 के चुनावों में मात्र 15 सीटें ही जीत पाया था. इस हार के बावजूद अकाली दल का वोट-शेयर 25.24 प्रतिशत रहा था. 20 सीटें जीत कर आम आदमी पार्टी दूसरी सबसे बड़ी
पार्टी के रूप में उभरी थी. 2017 के चुनावों में आम आदमी पार्टी ने 23.72 प्रतिशत वोट शेयर हासिल किया था.

Tags: Punjab Election 2022, Punjab elections

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर