कृषि कानून: सुखबीर बादल की CM अमरिंदर को चुनौती- 7 दिन में सत्र नहीं बुलाया तो करेंगे घेराव

सुखबीर सिंह बादल लगातार नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हैं. (Photo-PTI)
सुखबीर सिंह बादल लगातार नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हैं. (Photo-PTI)

Farm Laws: शिरोमणि अकाली दल (Shiromani Akali Dal) के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल (Sukhbir Singh Badal) ने मुख्यमंत्री आवास का घेराव करने की चेतावनी दी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 12, 2020, 10:46 PM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. नए कृषि कानूनों (Farm Laws) को लेकर जहां एक ओर किसानों (Farmers) का विरोध प्रदर्शन जारी है तो वहीं पंजाब (Punjab) में कांग्रेस (Congress) और अकाली दल (Akali Dal) के बीच भी इन कानूनों को लेकर सियासी घमासान मचा हुआ है. बात इस हद तक पहुंच गई है कि शिरोमणि अकाली दल (Shiromani Akali Dal) के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल (Sukhbir Singh Badal) ने मुख्यमंत्री आवास का घेराव करने की चेतावनी दी है. सुखबीर सिंह बादल ने सोमवार को पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह (CM Captain Amarinder Singh) को चुनौती देते हुए कहा कि मुख्यमंत्री के पास राज्य को अधिसूचित मंडी घोषित करने, केंद्र के कृषि अधिनियमों को खारिज करने और 2017 के संशोधित एपीएमसी अधिनियम को रद्द करने के लिए विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने के लिए 7 दिन हैं. यदि वह सत्र नहीं बुलाते हैं, तो शिरोमणि अकाली दल (शिअद) उनके आवास पर घेराव करेगा.

इससे पहले अकाली दल प्रमुख ने प्रधानमंत्री से किसानों को बातचीत के लिये आमंत्रित करने की अपील की थी. शिरोमणि अकाली दल (शिअद) प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) से आग्रह किया कि वह विवादित कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों को बातचीत के लिये आमंत्रित करें. बादल ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा, 'अब तक केन्द्र सरकार ने इस मुद्दे (कृषि कानूनों) के समाधान का कोई रास्ता नहीं निकाला है. मैं प्रधानमंत्री से आग्रह करता हूं कि वह खुद किसान निकायों की बैठक बुलाएं और उनकी बात सुनें.'

उन्होंने कहा कि न केवल किसान बल्कि कृषि मजदूर, आढ़तिया, मंडी मजदूर भी इन कानूनों से प्रभावित हुए हैं.



किसान-समर्थक राष्ट्रीय मोर्चा बनाएगा अकाली दल
बादल ने कहा, 'किसान सड़कों पर हैं और रेल की पटरियों पर डेरा जमाए हुए हैं. अगर किसान खुश नहीं रहेंगे तो देश कैसे खुश रहेगा.' उन्होंने पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिन्दर सिंह से दिल्ली जाकर कृषि कानूनों के मुद्दे पर केन्द्र सरकार पर दबाव बनाने की अपील की.

इससे पहले बादल ने शुक्रवार को कहा कि उनकी पार्टी संसद से पारित तीन कृषि कानूनों का विरोध करने के लिए क्षेत्रीय दलों का 'किसान-समर्थक राष्ट्रीय मोर्चा' बनाने की पहल करेगी. उन्होंने जोर दिया कि नए कृषि कानूनों से किसानों को लाभ नहीं होगा.

कृषि कानूनों को लेकर भाजपा नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से अलग होने वाले शिअद के अध्यक्ष बादल ने कहा कि वह निजी तौर पर भी इस नयी पहल में शामिल होंगे और जल्द ही दिल्ली में अन्य क्षेत्रीय दलों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक शुरू करेंगे. (भाषा के इनपुट सहित)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज