Facebook पर लाइव होकर नहर में कूदी युवती, राहगीरों ने अस्‍पताल में भर्ती कराया

Facebook पर लाइव होकर नहर में कूद गई युवती. (सांकेतिक फोटो)

23 वर्षीय मनकिरण ने बताया कि उसने यह कदम आर्थिक तंगी के कारण उठाया है. पति को नशा छुड़ाओ केंद्र में भर्ती करवाया गया है. ऐसी हालत में लोग अपने उधार के पैसे रोजाना मांग रहे थे. जिसके लिए उसे सुसाइड करने के लिए मजबूर होना पड़ा था.

  • Share this:
    चंडीगढ़. पंजाब के बठिंडा में आर्थिक तंगी (Financial constraints) के चलते एक युवती ने फेसबुक (Facebook) पर लाइव होकर नहर में कूद कर सुसाइड (suicide)  करने का प्रयास किया, लेकिन उस महिला पर रागिरों की नजर पड़ गई और उसे बचा लिया गया. बाद में एक समाजसेवी संस्था (Social organization) ने महिला को अस्पताल पहुंचाया. महिला की हालत अब स्थिर बताई जा रही है. मामले की जानकारी महिला के परिजनों और पुलिस को दे दी गई है.

    23 वर्षीय मनकिरण ने बताया कि उसने यह कदम आर्थिक तंगी के कारण उठाया है. वह बठिंडा की कमला नेहरू कालोनी की रहने वाली है. मनकिरन ने बताया कि उसकी मां हार्ट की मरीज (Heart patient) है और उसे बचाने के लिए हार्ट सर्जरी करवाने पड़ी थी. इस कारण उसे काफी पैसा लोगों से उधार लेना पड़ा था. युवती का कहना है कि उसका पति नशे का आदि है और पूरे परिवार का खर्च उसे ही उठाना पड़ता है. उसकी पांच साल की एक बेटी है और मां की दवाओं पर हर महीने दस हजार रुपए तक खर्च आता है. पति को नशा छुड़ाओ केंद्र में भर्ती करवाया गया है. ऐसी हालत में लोग अपने उधार के पैसे रोजाना मांग रहे थे. जिसके लिए उसे सुसाइड करने के लिए मजबूर होना पड़ा था.

    इसे भी पढ़ें :- पंजाब: नहर में बहते मिले रेमडेसिविर इंजेक्शन, जांच में पाए गए नकली, पुलिस ने दर्ज किया केस

    गौरतलब है कि पंजाब में बढ़ती हुई नशाखारी के कारण हजारों परिवारों का आर्थिक तंगी से गुजरना पड़ रहा है, क्यों कि नशे के आदि लोग नशों के लिए पैसा न मिलने पर घर का सामान तक बेच देते हैं. यही नहीं अपितु पंजा में घरेलू हिंसा के के पीछे भी नशाखोरी ही है. हालात ऐसे हैं कि नशे के खिलाफ आवाज उठाने वालों से तस्कर मारपीट पर उतर आते हैं. हाल ही में बठिंडा की ही चंदसर बस्ती में नशा बेचने वाले लोगों की शिकायत करने पर नशा तस्करों ने एक परिवार के तीन लोगों को घायल कर दिया. जिन्हें उपचार के लिए सिविल अस्पताल बठिडा में भर्ती करवाना पड़ा.