अपना शहर चुनें

States

गणतंत्र दिवस पर श्री गुरू तेग बहादुर के बलिदान को बयां करेगी पंजाब की झांकी

गणतंत्र दिवस पर पंजाब की झांकी दिखाएगी श्री गुरू तेग बहादुर का बलिदान.
गणतंत्र दिवस पर पंजाब की झांकी दिखाएगी श्री गुरू तेग बहादुर का बलिदान.

Republic Day Parade: नौवें पातशाह श्री गुरु तेग़ बहादुर जी के 400वें प्रकाश पर्व को दर्शाती समूची झांकी चारों ओर रूहानियत की आभा बिखेरेगी. ट्रैक्टर वाले अगले हिस्से पर पवित्र पालकी साहिब सुशोभित होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 25, 2021, 6:50 PM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. गणतंत्र दिवस (REPUBLIC DAY) के अवसर पर इस बार पंजाब की झांकी, शाश्वत मानवीय नैतिक-मूल्यों, धार्मिक सह-अस्तित्व और धार्मिक स्वतंत्रता को बरकरार रखने की ख़ातिर अपना जीवन कुर्बान करने वाले नौवें पातशाह श्री गुरु तेग़ बहादुर जी के सर्वोच्च बलिदान (SACRIFICE OF SRI GURU TEGH BAHADUR JI) को दृश्यमान करेगी.

57 श्लोकों सहित 15 रागों में रची है गुरबानी
फुल ड्रैस रिहर्सल से पहले मीडिया के साथ जानकारी साझा करते हुए पंजाब सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि श्री गुरु तेग़ बहादुर जी ने अमृतसर में 1 अप्रैल, 1621 को जन्म लिया था. मुगलों के विरुद्ध लड़ाई के दौरान बहादुरी दिखाने पर नौवें पातशाह को उनके पिता एवं छठे पातशाह श्री गुरु हरगोबिंद साहिब जी ने तेग बहादुर (तलवार के धनी) का नाम दिया था. ‘हिंद दी चादर’ के तौर पर जाने जाते महान दार्शनिक, आध्यात्मिक रहनुमा और कवि श्री गुरु तेग बहादुर जी ने 57 श्लोकों सहित 15 रागों में गुरबानी रची, जिसको दसवें पिता श्री गुरु गोबिन्द सिंह जी ने श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी में शामिल किया.


मुगल बादशाह को दी थी चुनौती


नौवें पातशाह ने श्री गुरु नानक देव जी के मानवता के प्रति प्रेम, शांति, समानता और भाईचारे के शाश्वत संदेश का प्रचार करने के लिए दूर-दूराज तक यात्राएं की. औरंगजेब की कट्टर धार्मिक नीति और जुल्म का सामना कर रहे कश्मीरी पंडितों की गाथा सुन कर गुरू साहिब ने मुगल बादशाह को चुनौती दी थी. इस्लाम कबूलने से इंकार करने पर मुगल बादशाह के आदेश पर नौवें पातशाह को 11 नवंबर, 1675 को चांदनी चौक, दिल्ली में शहीद कर दिया गया था.

झांकी में दिखाया गया है ये सब
नौवें पातशाह श्री गुरु तेग़ बहादुर जी के 400वें प्रकाश पर्व को दर्शाती समूची झांकी चारों ओर रूहानियत की आभा बिखेरेगी. ट्रैक्टर वाले अगले हिस्से पर पवित्र पालकी साहिब सुशोभित होगी. ट्रेलर वाले हिस्से के शुरू में ‘प्रभात फेरी’ दिखाई जाएगी और संगत कीर्तन करती दिखाई देगी. ट्रेलर के आखिरी हिस्से में गुरुद्वारा श्री रकाब गंज साहिब को दिखाया गया है, जो उस जगह स्थापित किया गया है, जहां भाई लक्खी शाह वंजारा जी और उनके पुत्र भाई नगाहिया जी ने गुरू साहिब के बिना शीश के शरीर का संस्कार करने के लिए अपना घर जला दिया था.

पहले भी तीसरा स्थान हासिल कर चुकी है झांकी
यहां यह बताने योग्य है कि पंजाब की झांकी को लगातार पांचवे साल गणतंत्र दिवस परेड के लिए चुना गया है. वर्ष 2019 में पंजाब की झांकी ने शानदार उपलब्धि दर्ज करते हुए तीसरा स्थान हासिल किया था. तब जलियांवाला बाग हत्याकांड की इस झांकी ने सब तरफ वाहवाही बटोरी थी. इससे पहले 1967 और 1982 में भी पंजाब की झांकी तीसरे स्थान पर रही थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज