अपना शहर चुनें

States

कृषि कानूनों के विरोध में पूरे पंजाब में 12 बजे से दोपहर 3 बजे तक रहेगा चक्का जाम

कृषि कानूनों के विरोध में पूरे पंजाब में 12 बजे से दोपहर 3 बजे तक रहेगा चक्का जाम
कृषि कानूनों के विरोध में पूरे पंजाब में 12 बजे से दोपहर 3 बजे तक रहेगा चक्का जाम

प्रदर्शन के दौरान जरूरी वस्तुओं दूध, फल, सब्जियों की गाड़ियों की आवाजाही को बाधित नहीं किया जाएगा. एंबुलेंस रास्ता दिए जाने के भी पूरे प्रबंध किए जाएंगे. राहगीरों को वैकल्पिक रास्ते बताने में स्थानीय पुलिस ट्रैफिक पुलिस सहयोग करेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 6, 2021, 9:02 AM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. कृषि कानून (Aagricultural Law) के विरोध में आज शनिवार को पूरे पंजाब (Punjab) में दोपहर 12 बजे से अपराह्न 3 बजे तक चक्का जाम (Chakka Jam) किया जाएगा. प्रदेश के किसान संगठनों ने इस चक्का जाम को सफल बनाने के लिए लोगों से किसानों का साथ देने की अपील की है. इस दौरान किसान संगठनों ने सभी इमरजेंसी सेवाओं को बहाल रखने का निर्णय लिया है.

प्रदर्शन के दौरान जरूरी वस्तुओं दूध, फल, सब्जियों की गाड़ियों की आवाजाही को बाधित नहीं किया जाएगा. एंबुलेंस रास्ता दिए जाने के भी पूरे प्रबंध किए जाएंगे. राहगीरों को वैकल्पिक रास्ते बताने में स्थानीय पुलिस ट्रैफिक पुलिस सहयोग करेगी. किसान संगठन चक्का जाम कर सरकार की नीतियों के खिलाफ आम जनता को संदेश देंगे. किसानों ने प्रदर्शन के दौरान इमरजेंसी सेवाओं, बरात, सेना, पुलिस को चक्का जाम से छूट देने का फैसला किया है.

कई शहरों के स्कूल और कॉलेज आज बंद रहेंगे जबकि कई जगह 6 फरवरी को होने वाले प्रैक्टिकल एग्जाम भी स्थगित कर दिए गए हैं. स्कूल प्रबंधकों का कहना है कि विद्यार्थियों को परेशानी से बचाने के लिए उक्त फैसला लिया गया है. अमृसर में किसानों ने आंदोलन के तहत शनिवार को गोल्डन गेट, जीएनडीयू के बाहर जीटी रोड पर, रईया, जंडियाला, मेहता, खजाला, कत्थूनंगल, मजीठा, फतेहगढ़ चूड़ियां, गग्गोमाहल, गुरु के बाग, रामतीर्थ, खासा, लोपोके, चोगांवां, बंडाला आदि की मुख्य सड़कों पर जाम लगाने की योजना तैयार की है. जबकि इस दौरान जालंधर में पीएपी चौक, किशनगढ़, प्रतापपुरा और विधिपुर हाईवे पर किसान समर्थक रास्ता बंद करके आवाजाही रोकेंगे.
इसे भी पढ़ें :- कृषि कानूनों के विरोध में किसानों का चक्‍का जाम आज, क्या खुला, क्या बंद यहां जानें सब



किसान नेताओं ने कहा कि 26 जनवरी को ट्रैक्टर परेड के दौरान दिल्ली में जो किसान गिरफ्तार किए थे उनकी रिहाई, किसानों के खिलाफ मामले तथा किसान विरोधी कानून रद्द करने की मांग को लेकर यह चक्का जाम विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है.उन्होंने कहा कि उनका संघर्ष कृषि कानूनों की वापिस होने तक जारी रहेगा, इसक लिए कितनी किसान शहादत के लिए भी तैयार हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज