पंजाब में दिखा भारत बंद का व्यापक असर, रेल-सड़क यातायात हुए प्रभावित

अमृतसर में किसान रेल्वे ट्रैक पर पहुंच गए हैं. (फोटो: ANI/Twitter)

अमृतसर में किसान रेल्वे ट्रैक पर पहुंच गए हैं. (फोटो: ANI/Twitter)

Bharat Bandh: रेलवे ट्रैक (Railway Track) जाम करने से कई ट्रेनों की रफ्तार थमी सी दिखी और रेलवे स्टेशनों पर यात्री परेशान दिखे. जालंधर के कई इलाकों में बैंकों को बंद करवाने की भी कोशिश की गई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 26, 2021, 11:43 AM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. संयुक्त किसान मोर्चा (Samyukt Kisan Morcha) की कॉल पर भारत बंद  (Bharat Bandh) का असर पंजाब के विभिन्न जिलों में व्यापक स्तर पर दिखा. किसान इस बंद के लिए पहले से ही तैयारियां कर रहे थे और शुक्रवार को पंजाब के कई शहरों और गांवों में सुबह ही सड़कों और रेलवे ट्रैकों पर उतर आए. अमृतसर (Amritsar), जालंधर (Jalandhar), मोगा, बठिंडा, फतेहगढ़ साहिब और अन्य जिलों में किसानों ने सड़क यातायात और रेलवे की आवाजाही को ठप कर दिया. इस दौरान शहर की दुकानें भी सुबह ही बंद नजर आईं.

रेलवे ट्रैक जाम करने से कई ट्रेनों की रफ्तार थमी सी दिखी और रेलवे स्टेशनों पर यात्री परेशान दिखे. जालंधर के कई इलाकों में बैंकों को बंद करवाने की भी कोशिश की गई. बंद के कारण सुबह दूध की सपलाई भी प्रभावित हुई है. शहरों के साथ लगते हाईवे पर किसानों ने मोर्चे लगा रखे हैं. जहां से सिर्फ रोगी वाहनों कों जाने दिया जा रहा है.

यह भी पढ़ें: किसानों का भारत बंद 2.0: चार शताब्दी ट्रेन रद्द हुईं, 32 रेल लोकेशन प्रभावित; यहां जानें देश में क्या हैं हाल



अलग-अलग जगह किए जा रहे धरने और प्रदर्शनों में किसान केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर रहे हैं आरै सरकार से कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग कर रहे हैं. अमृतसर में किसान मजदूर संगठनों ने सुबह छह बजे से ही रोष प्रदर्शन व धरने शुरू कर दिए थे. किसानों की ओर से गोल्डन गेट और रेलवे फाटक वल्ला पर रोष मार्च निकाला है. वहीं सरहिंद में दिल्ली-अमृतसर नेशनल हाईवे (Delhi-Amritsar National Highway) जाम कर दिया गया है.

जम्मू तवी से दिल्ली जा रही शिव शक्ति एक्सप्रेस को सरहिंद जंक्शन पर रोक दिया गया. यातायात ठप होने से ट्रांसपोर्टरों के कई ट्रक माल सहित रास्ते में ही अटक गए हैं. संयुक्त मोर्चा के नेता रुलदा सिंह मानसा का दावा है कि यह बंद पूरी तरह से कामयाब होगा और इसका असर व्यापक रूप से सुबह ही दिखना शुरू हो गया है. उन्होंने कहा कि यह बंद शाम छह बजे तक होगा और बाजारों को जबरन बंद नहीं करवाया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज