Home /News /punjab /

Singhu Border Lynching Case: लखबीर के परिवार को 1 लाख की आर्थिक मदद देने पहुंचे दो सिख कार्यकर्ता

Singhu Border Lynching Case: लखबीर के परिवार को 1 लाख की आर्थिक मदद देने पहुंचे दो सिख कार्यकर्ता

लखबीर सिंह की दिल्‍ली के सिंघु बॉर्डर पर पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी. 
(सांकेतिक  फोटो)

लखबीर सिंह की दिल्‍ली के सिंघु बॉर्डर पर पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी. (सांकेतिक फोटो)

Singhu Border Lynching Case: भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद ने तरनतारन के गांव चीमा खुर्द में लखबीर की बहन राज कौर से मुलाकात की थी और अधिक मदद का वादा करते हुए 5,000 रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान की थी.

    चंडीगढ़. सिंघु बॉर्डर (Singhu Border) पर पीट-पीटकर मार दिए गए (Lynching on the Singhu border) लखबीर सिंह की पत्नी और उनकी तीन बेटियों को दो सिख कार्यकर्ताओं (Sikh activists) से एक लाख रुपये की आर्थिक मदद (Financial Help) दी गई है. गंगवीर सिंह राठौर और सनी सिंह खालसा दोनों स्वतंत्र सामाजिक कार्यकर्ता हैं (Independent Social Activists)  और इन्होंने अमृतसर में लखबीर के ससुराल के गांव का दौरा किया. उन्होंने कहा कि उन्होंने स्वैच्छिक दान (Voluntary Donation) के माध्यम से यह पैसा एकत्र किया था और समुदाय की ओर से इसे दिया.

    इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक लिखित बयान में उन्होंने कहा कि हम कोई गलत धारणा नहीं बनाना चाहते हैं कि कथित बेअदबी के संदिग्ध व्यक्ति के परिवार को वित्तीय सहायता मिले या न मिले. हम लखबीर की लड़कियों की मदद करना चाहते हैं, क्योंकि वह भी लखबीर का शिकार थीं, जिन्होंने उन्हें कभी खाना नहीं दिया.

    राठौर और खालसा ने कहा कि हालांकि, कुछ लोग इन लड़कियों का इस्तेमाल लखबीर के प्रति सहानुभूति पैदा करने और गंदी राजनीति करने के लिए कर रहे हैं. हम इन लोगों से कहना चाहते हैं कि इन लड़कियों का इस्तेमाल अपनी राजनीति करने के लिए न करें, बल्कि उनकी मदद करें. उनकी मदद की जानी चाहिए क्योंकि वे लखबीर से परेशान थीं. बाकी सिंघु सीमा पर हुई घटना के बारे में हमारे विचार अकाल तख्त के कार्यवाहक जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह के समान हैं.

    गंगवीर ने आर्थिक मदद देते हुए कहा कि हमें अखबारों से पता चला कि लखबीर की तीन बेटियों और पत्नी की देखभाल वह नहीं करता था. पिछले पांच वर्षों में लखबीर ने कभी यह जानने की परवाह नहीं की कि वे कैसे रह रहे हैं. उनके बहनोई सुखचैन सिंह ने इन समाचारों का समर्थन किया. बेअदबी अधिनियम में उनके शामिल होने के आरोपों ने परिवार के लिए और अधिक परेशानी पैदा कर दी है. उनका जीवन पहले से ही दुखों से भरा था. लखबीर की कथित हरकतों के लिए परिवार के प्रति किसी भी तरह की द्वेष रखने की कोई गुंजाइश नहीं है.

    सिख कार्यकर्ताओं के साथ एक वीडियो में लखबीर के बहनोई सुखचैन सिंह ने कहा कि अगर लखबीर दोषी है, तो हम समुदाय के साथ खड़े हैं. रविवार को भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद ने तरनतारन के गांव चीमा खुर्द में लखबीर की बहन राज कौर से मुलाकात की थी और अधिक मदद का वादा करते हुए 5,000 रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान की थी.

    Tags: Amritsar, Delhi Singhu Border, Punjab, Singhu Border

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर