पंजाब में भी 18+ आयु वालों को नहीं मिल सकेगा टीका, वैक्सीन कमी के चलते कार्यक्रम रद्द

मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि उनकी सरकार ने वैक्सीन की कमी का मुद्दा केंद्र के समक्ष उठाया है. (प्रतीकात्मक)

मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि उनकी सरकार ने वैक्सीन की कमी का मुद्दा केंद्र के समक्ष उठाया है. (प्रतीकात्मक)

Vaccination in Punjab: सीरम इंस्टीट्यूट के पास 26 अप्रैल को 18 -45 साल उम्र वर्ग के लिए कोविशील्ड (Covishield) की 30 लाख खुराकों का आर्डर दिया गया था परन्तु जवाब आया कि वैक्सीन की उपलब्धता का पता चार हफ्तों के अंदर लगेगा.

  • Share this:
चंडीगढ़. कोविड वैक्सीन (Covid vaccine) की कमी के चलते पंजाब में 18-45 साल उम्र वर्ग की तीसरे चरण के वैक्सीनेशन (Vaccination) को स्थगित कर दिया गया है. यह वैक्सीनेशन प्रोग्राम आज शनिवार को शुरू होना था. इसके इलावा आज शनिवार से प्राइवेट स्वास्थ्य सेवाओं में भी वैक्सीनेशन कार्यक्रम (Vaccination programme) स्थगित रहेगा.

मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) ने स्पष्ट किया कि वैक्सीन उपलब्ध न होने के कारण 18-45 साल उम्र वर्ग की तीसरे चरण की  मुहिम अपने तय किये प्रोग्राम के अनुसार शुरू नहीं की जा सकेगा. उन्होंने कहा कि सभी प्राइवेट स्वास्थ्य संस्थाओं की तरफ से बची हुई वैक्सीन बिना प्रयोग के भारत सरकार को वापिस कर दी गई हैं. इन संस्थाओं के पास अब 45 साल से अधिक वर्ग के लिए लगाई जाने वाली खुराक नहीं बची है. कैप्टन ने कहा है कि वैक्सीन की सप्लाई न होने के कारण 18-45 साल उम्र के लोगों का अब टीकाकरण नहीं किया जा सकता.

केंद्र के सामने उठा चुके हैं वैक्सीन की कमी का मुद्दा

मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार ने वैक्सीन की कमी का मुद्दा केंद्र के समक्ष उठाया है. कोविड वैक्सीन की स्थिति का जायजा लेने के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य को 2 लाख खुराकें मिली थीं परन्तु यह 45 साल से अधिक उम्र वर्ग की दो दिन की जरूरतें पूरी करने के लिए भी अपर्याप्त हैं. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार प्राथमिकता के आधार पर 45 साल से अधिक वालों के लिए केंद्र से वैक्सीन की सप्लाई लेने की कोशिश कर रही है और डॉ. गगनदीप कंग के विशेषज्ञों के साथ अंतरिम रिपोर्ट के आधार पर तीसरे चरण के टीकाकरण की रणनीति बनाने की कोशिश कर रही है.
यह भी पढ़ें: COVID-19: आज से कुछ राज्यों में 18+ को लगनी शुरू हुई कोरोना वैक्सीन, कुछ में होगी देरी, जानें अपने यहां का हाल

चार सप्ताह तक उपलब्ध नहीं हो पाएगी निजी तौर पर वैक्सीन

सीरम इंस्टीट्यूट के पास 26 अप्रैल को 18 -45 साल उम्र वर्ग के लिए कोविशील्ड की 30 लाख खुराकों का आर्डर दिया गया था परन्तु जवाब आया कि वैक्सीन की उपलब्धता का पता चार हफ्तों के अंदर लगेगा. कैप्टन ने बताया कि सीरम इंस्टीट्यूट ने राज्य सरकार को कहा है कि अगले 3-4 महीनों के लिए मांग बताई जाए और इसके लिए एडवांस भुगतान करना होगा.





उन्होंने यह भी बताया कि सरकार को यह सप्लाई हर महीने विभिन्न चरणों में में मिलेगी. स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों से अनुसार सबसे अधिक प्रभावित छह जिलों में से मोहाली, जालंधर और लुधियाना में टीकाकरण के लिए अच्छे प्रयास किये जा रहे हैं जबकि अमृतसर, बठिंडा और पटियाला निश्चित लक्ष्यों से पीछे चल रहे हैं. मुख्यमंत्री ने इन तीनों ही जिलों को प्रयास तेज करने के लिए कहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज