Assembly Banner 2021

Rajasthan Bye Election 2021: चूरू में अभिनव राजस्थान पार्टी लड़ेगी उपचुनाव, प्रदेश अध्यक्ष ने किया ऐलान

अभिनव राजस्थान पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए.

अभिनव राजस्थान पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए.

राजस्थान (Rajasthan) में होने वाले उपचुनाव (Bye Election) में सुजानपुर में अभिनव राजस्थान पार्टी उप चुनाव लड़ेगी. पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. अशोक चौधरी ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए यह बात कही है. यहां मंत्री मास्टर भंवरलाल के निधन के बाद जल्द उप चुनाव होगा.

  • Share this:
सुजानगढ़ (चूरू). सुजानगढ़ में अभिनव राजस्थान पार्टी उपचुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है. पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डाॅ. अशोक चौधरी ने कहा है कि हमारी पार्टी उप चुनाव लड़ेगी और यहां की जनता को हमारे प्रत्याशी द्वारा कराये जाने वाले कामों की गारंटी लिखित में दी जाएगी. चौधरी ने यह बात सुमेरू काॅम्पलेक्स में कार्यकर्ताओं के साथ मीटिंग में कही.

चौधरी ने कहा कि सुजानगढ़ और बीदासर कस्बे में हमारी पार्टी के विधायक का एक कार्यालय बकायदा सरकारी नियमानुसार खुलेगा, जिसमें कोई भी नागरिक अपनी शिकायत दर्ज करवा सकेगा और उस शिकायत का निवारण प्रत्येक विभाग में जाकर विधायक के सचिव द्वारा कराया जाएगा. उन्होंने कहा कि पद्मश्री कन्हैयालाल सेठिया की धरती पर उनका स्मारक न होना अपने आप में दुर्भाग्यपूर्ण है, जिसके लिए हम काम करेंगे.

वसुंधरा और सतीश पूनिया गुट के बीच कलह से खफा नजर आए नड्डा, दिया ये सख्त संदेश



चौधरी ने कहा चार जगह उप चुनाव हैं, लेकिन हमने सुजानगढ़ का चयन केवल इसलिए किया है, क्योंकि यह पद्मश्री कन्हैयालाल सेठिया की धरती है और यहां के लोग काफी जागरूक हैं, जो अपने हक और अधिकार के प्रति सजग होकर वोट करेंगे उन्होंने कहा कि आज चुनाव होने के बाद जनप्रतिनिधि पर जनता अपना नियंत्रण लगभग खो बैठी है, लेकिन हमारी पार्टी ऐसा विधायक देगी, जिस पर जनता का पूरा पांच साल तक नियंत्रण रहेगा.
इस दौरान प्रदेश समिति सदस्य सुनील तिलोटिया, महेश कुमार, चन्द्र प्रकाश सोनी, प्रवीण राठौड़ आदि मौजूद रहे. बता दें कि राजस्थान में चार विधानसभी सीटों पर उपचुनाव होने हैं, इन चुनावों को लेकर अभिनव राजस्थान पार्टी अपनी किस्मत आजमाने जा रही है. अब चुनाव के रिजल्ट आने पर ही पता चलेगा कि यह पार्टीअपने पैर जमा पाती है या फिर मजह कुछ वोटों पर ही सिमट कर रह जाती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज