लाइव टीवी

अजमेर: 7 साल की मासूम के साथ रेप करने वाले रेपिस्ट को कोर्ट ने दी उम्रकैद की सजा
Ajmer News in Hindi

Abhijeet Dave | News18 Rajasthan
Updated: January 31, 2020, 7:26 PM IST
अजमेर: 7 साल की मासूम के साथ रेप करने वाले रेपिस्ट को कोर्ट ने दी उम्रकैद की सजा
रेपिस्ट गणेश 7 साल की एक मासूम बच्ची को सांस्कृतिक कार्यक्रम से बहला फुसलाकर सुनसान इलाके में ले गया और वहां उससे रेप किया.

अजमेर (Ajmer) की पोक्सो कोर्ट (POCSO Court) क्रम संख्या (2) ने शुक्रवार को एक बड़ा फैसला सुनाते हुए सात साल की मासूम के साथ रेप करने वाले रेपिस्ट (Rapist) को उम्रकैद की सजा (Life sentence) और 75 हजार रुपये के आर्थिक दंड से दंडित किया है.

  • Share this:
अजमेर. पोक्सो कोर्ट (POCSO Court) क्रम संख्या (2) ने शुक्रवार को एक बड़ा फैसला सुनाते हुए सात साल की मासूम के साथ रेप करने वाले रेपिस्ट (Rapist) को उम्रकैद की सजा (Life sentence) और 75 हजार रुपये के आर्थिक दंड से दंडित किया है. आरोपी मासूम पीड़िता को बहला-फुसलाकर अपने साथ ले गया था और रेप (Rape) जैसी घिनौनी वारदात को अंजाम दिया.

नसीराबाद सदर थाना इलाके में हुई थी वारदात
पोक्सो कोर्ट के विशिष्ठ लोक अभियोजक विक्रमसिंह शेखावत ने बताया कि घटना नवंबर, 2018 अजमेर जिले के नसीराबाद सदर थाने इलाके में हुई थी. वहां गणेश नाम का युवक 7 साल की एक मासूम बच्ची को सांस्कृतिक कार्यक्रम से बहला फुसलाकर सुनसान इलाके में ले गया और वहां उससे रेप किया. पीड़िता की मेडिकल रिपोर्ट में सामने आया कि उसके शरीर पर चोट के 15 निशान थे. चोट के ये निशान इशारा कर रहे थे कि आरोपी ने उसके साथ मारपीट भी की थी. इस मामले में पीड़िता के पिता ने नसीराबाद सदर थाने में मुकदमा दर्ज कराया था.

अभियोजन पक्ष ने कोर्ट में 29 गवाह और 21 दस्तावेज पेश किए



पुलिस ने मामले की जांच करते हुए आरोपी गणेश को गिरफ्तार लिया. बाद में अपनी जांच-पड़ताल पूरी कर उसके खिलाफ कोर्ट में चालान पेश किया. कोर्ट में सुनवाई के दौरान अभियोजन पक्ष की ओर से इस मामले में 29 गवाह और 21 दस्तावेज पेश किए गए. अदालत ने तमाम गवाह और सबूत के आधार पर आरोपी गणेश को रेप का दोषी करार दिया. कोर्ट ने शुक्रवार को इस मामले में अपना फैसला सुनाते हुए रेपिस्ट गणेश का आजीवन कारावास और 75 हजार रुपये के आर्थिक दंड की सजा दी है.



न्यायाधीश ने की यह टिप्पणी
पोक्सो कोर्ट के न्यायाधीश राजेशचंद गुप्ता ने अपने फैसले में एक टिप्पणी भी की है. उसमें उन्होंने कहा कि पीड़िता की छोटी उम्र को देखते हुए उसके साथ हुई घटना ने गहरा मानसिक प्रभाव छोड़ा है. इसलिए मुलजिम को कठोर से कठोर सजा दी जानी चाहिए, जिससे समाज में एक संदेश जाए.

 

जयपुर: 10वीं की छात्रा से रेप, गर्भवती हुई तो खुला मामला, आरोपी फरार

 

अलवर में अपहरण कर नाबालिग लड़की से तीन दिन तक गैंगरेप, आरोपियों के खिलाफ FIR
First published: January 31, 2020, 7:22 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading