अपना शहर चुनें

States

कोविड-19 के बाद अब राजस्थान के पोल्ट्री उद्योग पर Bird Flu का खतरा, संचालक सर्तक

 बर्ड फ्लू  की आशंका के बाद कारोबारी अलर्ट हो गए हैं. 
 बर्ड फ्लू  की आशंका के बाद कारोबारी अलर्ट हो गए हैं. 

राजस्थान में एकाएक कौवों की मौत के बाद से फैली बर्ड फ्लू (Bird Flu) की आशंका ने एक बार फिर से मुर्गी पालन व्यवसाय (Poultry Business) से जुडे लोगों की चिंताओं को बढ़ा दिया है. हालांकि अभी तक ऐसे किसी भी वायरस की पुष्टि नहीं हुई है, लेकिन  विभाग और पोल्ट्री संचालक सर्तक हो गए है.

  • Share this:
अजमेर . राजस्थान में एकाएक कौवों की मौत के बाद से फैली बर्ड फ्लू (Bird Flu) की आशंका ने एक बार फिर से मुर्गी पालन व्यवसाय (Poultry Business) से जुडे लोगों की चिंताओं को बढ़ा दिया है. हालांकि अभी तक ऐसे किसी भी वायरस की पुष्टि नहीं हुई है जिससे मुर्गियों पर खतरा पैदा हुआ हो, लेकिन एहतियात के तौर पर विभाग और पोल्ट्री संचालक सर्तक हो गए है. कोरोना के भीषण दौर में पहले ही अधमरा सा हो चुका मुर्गीपालन व्यवसाय अब बर्ड फ्लू की आशंका के चलते खासा भयभीत हो गया है. प्रदेश में पिछले एक सप्ताह के दौरान कई जिलों से आ रही कौवों की मौत की खबर और शुरुआती पड़ताल ने इस व्यवसाय पर संशय के बादल मंडरा दिए है.

अजमेर मुर्गीपालन के क्षेत्र में एक बड़ा हब है. लिहाजा यहां पर विभाग और पोल्ट्री संचालक अतिरिक्त सावधानी और सर्तकता बरत रहे है. अजमेर में अभी तक मुर्गियों से फैलने वाले वायरस या फिर मुर्गियों में किसी तरह के रोग की शिकायतें सामने नहीं आई है. विभाग के मुताबिक, जिन कौवों की मौत हुई है उनके शव काफी डिकम्पोज हो चुके थे. संभावना यह जताई जा रही है कि तेज ठंड या जहरीला पदार्थ सेवन से उनकी मौत हुई है. पशुपालन विभाग के उपनिदेशक डॉ. प्रफुल्ल माथुर का कहना है कि  पिछले साल भी इसी तरह से कौवों की मौत हुई थी और उनकी भोपाल से आई जांच रिर्पोट में किसी तरह के बर्ड फ्लू की पुष्टि नहीं हुई थी.

ये भी पढ़ें: हिमाचल सरकार का फैसला: 4 जिलों में नाइट कर्फ्यू खत्म, कोचिंग क्लासेस को भी मिली मंजूरी 




अलर्ट हुए कारोबारी

इस सबके बीच में अजमेर में हालांकि पोल्ट्री व्यवसायी इस संभावित खतरे को समझते हुए किसी तरह की लापरवाही नहीं बरत रहे है. बाजार की बात करें तो अभी भी अंडे का सबसे अच्छा भाव कारोबारियों को मिल रहा है जिससे वे काफी उत्साहित है. देश में अंडे का भाव अजमेर से ही खुलता है और पिछले एक सप्ताह के दौरान प्रति सौ अंडा भाव 500 के आसपास चल रहा है जो इस सीजन के हिसाब से अच्छा माना जाता है. हालांकि, पोल्ट्री कारोबारी इस संभावित खतरे से वाकिफ है जो सभी जरूरी एहतियात बरते रहे है जिससे कोरोना काल में हुई नुकसान से दुबारा दो चार नही होना पड़े.

अभी तक नहीं मिला कोई वायरस: पशुपालन विभाग

पशुपालन विभाग के उपनिदेशक डॉ. प्रफुल्ल माथुर के मुताबिक, मुर्गियों में होने वाला फ्लू वायरस एच5एन1 होता है. जबकि अभी तक कौवों की मौत के बाद हुई जांच में किसी में भी इस तरह का वायरस नहीं मिला है. झालावाड से आई रिर्पोट में एच5 वारयस मिला है, लेकिन उसका सीधा असर मुर्गीयों में होने वाले वायरस से नहीं है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज