होम /न्यूज /राजस्थान /राजस्थान में राजनीतिक गतिरोध के बीच BJP का तंज, कहा- इस्तीफों का चल रहा है सियासी पाखंड

राजस्थान में राजनीतिक गतिरोध के बीच BJP का तंज, कहा- इस्तीफों का चल रहा है सियासी पाखंड

गहलोत कैंप के विधायक सचिन पायलट को सीएम बनाने जाने के लिए तैयार नहीं.

गहलोत कैंप के विधायक सचिन पायलट को सीएम बनाने जाने के लिए तैयार नहीं.

राजस्थान में चल रहे राजनीतिक गतिरोध पर भाजपा नेताओं ने कई ट्वीट किये हैं. कांग्रेस पार्टी की अंदरुनी लड़ाई को लेकर भाजप ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

राजस्थान में सीएम पद को लेकर हंगामा शुरू हो गया है. कांग्रेस विधायक दो अलग-अलग खेमे में नजर आ रहे हैं.
कांग्रेस के विधायक दल के बैठक में जाने के बजाए करीब 80 से अधिक विधायक सीपी जोशी के घर पहुंचे हुए हैं.
भाजपा ने कांग्रेस की अंदरुनी लड़ाई को लेकर ट्वीटर पर जमकर तंज कसा है.

जयपुर. राजस्थान में इस वक्त कांग्रेस पार्टी की सरकार में आंतरिक कलह अब खुलकर सामने आ गई है. एक तरफ कुछ विधायक पार्टी विधायक दल की बैठक में पहुंचे तो वहीं करीब 82 विधायक बैठक में ना जाकर विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी के आवास पर पहुंचे हुए हैं. इस दौरान पर्यवेक्षक के तौर पर पहुंचे मल्लिकार्जुन खड़गे और अजय माकन विधायकों का इंतजार कर रहे हैं और अब फैसला लिया गया है कि सभी विधायकों से एक-एक कर बातचीत की जाएगी. वहीं इस राजनीतिक घटनाक्रम के बीच भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां ने रविवार रात कहा कि राज्य में 2023 विधानसभा चुनाव के रुझान आने शुरू हो गए हैं. पूनियां ने ट्वीट किया, ‘रूझान आने प्रारंभ…2023 में ‘जय भाजपा-तय भाजपा’.

एक अन्य ट्वीट में प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा, ‘इतनी अनिश्चितता तो आज भारत-ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट मैच में भी नहीं है जितनी राजस्थान की कांग्रेस पार्टी में नेता को लेकर है. विधायकों की बैठकें अलग चल रही है, इस्तीफों का सियासी पाखंड अलग चल रहा है. ये क्या राज चलाएंगे, कहां ले जाएंगे ये राजस्थान को, अब तो भगवान बचाए राजस्थान को.’

News18 Hindi
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने राजस्थान में चल रहे राजनीतिक गतिरोध को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा.

वहीं राजस्थान विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने सरकार के अंदर चल रहे गतिरोध को लेकर बड़ा बयान दिया. उन्होंने कहा कि हम देख रहे हैं कांग्रेस का खेल. खेल बिगड़ने पर हम डालेंगे हाथ. वहीं अपने बयान में उन्होंने कांग्रेस नेता और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के प्रति सहानुभूति जताते हुए कहा कि पायलट की वजह से सत्ता में आई थी कांग्रेस. लेकिन अब अशोक गहलोत नहीं बनने देंगे पायलट को मुख्यमंत्री.

इस घटनाक्रम के बाद कांग्रेस का पतन होना तय. वहीं पूर्व मंत्री वासुदेव देवनानी ने ट्वीट करते हुए प्रदेश के राज्यपाल से मामले में दखल देने की मांग की है. उन्होंने ट्वीट कर कहा कि अस्थिर होते हालातों पर प्रदेश का भविष्य खराब है. साथ ही यह भी कहा कि राजनीतिक महत्वाकांक्षा में प्रदेश बर्बाद हो रहा है.

वहीं पंजाब से आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद राघव चड्ढा ने ट्वीट करते हुए कहा कि कांग्रेस खत्म है..केजरीवाल विकल्प हैं. वहीं भाजपा नेता सुनील जाखड़ ने कांग्रेस पार्टी पर चुटकी लेते हुए सवाल किया कि राजस्थान का अगला चन्नी कौन होगा. भाजपा नेता राजेंद्र राठौर ने तंज कसते हुए ट्वीट कर लिखा कि कांग्रेस में जारी भीतरी लड़ाई का संघर्ष अंतहीन है, जुलाई 2020 के बाद अब एक बार फिर कौरवों की ए और बी टीम आमने-सामने है और जादूगर की जादूगरी में सिर फुटौवल चरम पर है. वहीं राजस्थान की जनता को फिर से भगलाव भरोसे छोड़ दिया है.

बता दें कि कांग्रेस के विधायक दल की अहम बैठक बुलाई गई है. जिसमें पर्यवेक्षक के तौर पर मल्लिकार्जुन खड़गे औरक अजय माकन मौजूद हैं. साथ में सचिन पायलट भी हैं. लेकिन करीब 82 विधायक बैठक में ना जाकर स्पीकर सीपी जोशी के आवास पर अपने इस्तीफे के साथ पहुंच गए हैं. उम्मीद जताई जा रही है कि कांग्रेस के विधायक दल की बैठक में सीएम अशोक गहलोत इस्तीफा सौंप सकते हैं और नए सीएम का ऐलान भी हो सकता है. (इनपुट भाषा से)

Tags: Rajasthan Congress

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें