COVID-19: कोचिंग सिटी कोटा में प्रशासन ने शुरू की सख्ती, 2060 लोगों के खिलाफ कार्रवाई

कोचिंग सिटी कोटा में कोरोना संक्रमण के बिगड़ते हालत पर अंकुश लगाने के लिये शहर के दो थानों के पूरे इलाकों में जीरो मोबेलिटी क्षेत्र घोषित किया हुआ है.

कोचिंग सिटी कोटा में कोरोना संक्रमण के बिगड़ते हालत पर अंकुश लगाने के लिये शहर के दो थानों के पूरे इलाकों में जीरो मोबेलिटी क्षेत्र घोषित किया हुआ है.

Violation of Corona Protocol in Kota: कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन करने पर कोटा जिला पुलिस एवं प्रशासन ने 4 दिन में 2060 लाेगों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए 3 लाख 36 हजार 800 रुपए का जुर्माना किया है.

  • Share this:
कोटा. कोरोना कोचिंग सिटी कोटा में कोरोना से हालात बिगड़ने लगे हैं. कोटा में बुधवार को एक ही दिन में 644 नए लोग कोरोना संक्रमित पाए गए. जिला प्रशासन ने कोरोना प्रोटोकॉल का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई शुरू कर दी है. चार दिन में कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन करने वाले 2060 व्यक्तियों के खिलाफ कार्रवाई की गई है. इस दौरान पुलिस एवं प्रशासन ने इन लोगों के चालान कर 3 लाख 36 हजार 800 रुपए के चालान काटे हैं. लेकिन फिर भी लोग लापरवाह बने हुए हैं. प्रशासन अब और सख्ती बरतने जा रहा है.

कोचिंग सिटी कोटा की अर्थव्यवस्था देशभर से यहां आकर मेडिकल और इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षाओं की तैयारी करने वाले स्टूडेंट्स पर टिकी है. एक अनुमान के अनुसार प्रतिवर्ष देशभर से औसतन डेढ़ लाख स्टूडेंट्स कोटा आते हैं. कोटा में एमबीबीएस-2019 बैच के 24 स्टूडेंट भी कोरोना संक्रमित हो चुके हैं. उसके बाद कॉलेज प्रशासन ने 5 दिन के लिए उनकी क्लास बंद कर दी है.

जिला प्रशासन उठा रहा है ये कदम

बिगड़ते हालत पर अंकुश के लिए शहर के दो थानों के पूरे इलाकों को जीरो मोबेलिटी क्षेत्र घोषित किया जा चुका है. इसके अलावा पॉजिटिव पाए जाने वाले पीड़ितों के निवास को केन्द्र मानते हुए उसके चारों ओर के 100 मीटर परिधि क्षेत्र को भी जीरो मोबिलिटी घोषित करने के आदेश हैं. कोटा में कोरोना संक्रमण के कारण हालात बेकाबू नहीं हो और चिकित्सा व्यवस्था ना चरमराए इसके लिए जिला प्रशासन ने हाल ही में ऑक्सीजन सिलेंडर खरीदने के नए वर्कआर्डर भी जारी किए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज