Corona का कहरः ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह आगामी 30 अप्रैल तक बंद

कोरोना के खतरे से सूफी संत ख्वाजा माइनुद्दीन हसन चिश्ती की दरगाह 30 अप्रैल तक बंद

कोरोना के खतरे से सूफी संत ख्वाजा माइनुद्दीन हसन चिश्ती की दरगाह 30 अप्रैल तक बंद

कोविड-19 को लेकर राज्य सरकार द्वारा जारी की गई नई गाइडलाइन के तहत शुक्रवार सुबह 6 बजे से सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती की दरगाह को जायरीन के लिए बंद कर दिया गया. सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती की दरगाह आगामी 30 अप्रैल तक बंद रहेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 16, 2021, 7:17 PM IST
  • Share this:
अजमेर. राजस्थान (Rajasthan) में कोरोना संक्रमण को लेकर लगातार खतरा बढ़ता जा रहा है. कोरोना पॉजीटिव मरीजों की संख्या बढ़ती जी जा रही है. इसी के चलते कोविड-19 (Covid 19) को लेकर राज्य सरकार द्वारा जारी की गई नई गाइडलाइन के तहत शुक्रवार सुबह 6 बजे से सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती की दरगाह को जायरीन के लिए बंद कर दिया गया. सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती की दरगाह आगामी 30 अप्रैल तक बंद रहेगी. इस दौरान सिर्फ पासधारी खादिम ही दरगाह में प्रवेश कर ख्वाजा गरीब नवाज की खिदमत कर सकेंगे.

गौरतलब है कि कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर कई राज्यों के हालात बिगड़ गए हैं. मरीज संक्रमण का शिकार होने के साथ ही मौत के मुंह में समा रहे हैं. बीती देर रात जिला कलेक्टर प्रकाश राजपुरोहित व पुलिस अधीक्षक जगदीश चंद्र शर्मा ने दरगाह पहुंचकर खादिमों से बातचीत की थी. कोरोना के फैलते संक्रमण और उसके खतरों की जानकारी दी. साथ ही कोरोना गाइडलाइन की पालना करने के निर्देश भी दिए .

जिला कलेक्टर प्रकाश राजपुरोहित ने बताया कि दरगाह के निजाम गेट सहित दरगाह के बाकी गेटों पर भी बेरिकेड्स लगाकर बन्द किया जाएगा. सिर्फ दरगाह के दो गेटों खोला जाएगा. राजपुरोहित के अनुसार गेट नम्बर 5 छतरी गेट व 10 नम्बर सोलह खम्बा खादिमों के लिए खुला रखा गया है. इस दौरान सिर्फ पासधारी खादिम ही दरगाह में प्रवेश कर ख्वाजा गरीब नवाज की खिदमत कर सकेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज