Assembly Banner 2021

सरकारी कर्मचारी सोच समझकर मूंछों पर ताव दें! मिल सकता है नोटिस

File photo: Getty Images

File photo: Getty Images

आन-बान और शान की प्रतीक राजस्थानी मूंछों की धाक दुनियाभर में है, लेकिन सरकारी अधिकारी-कर्मचारी जरा सोच-समझकर मूछों ताव दें. हो सकता है कि कोई उच्चाधिकारी इससे नाराज हो जाए तो यह भारी पड़ सकता है.

  • Share this:
आन-बान और शान की प्रतीक राजस्थानी मूंछों की धाक दुनियाभर में है. लेकिन सरकारी अधिकारी-कर्मचारी जरा सोच-समझकर अपनी मूछों ताव दें. हो सकता है कि कोई उच्चाधिकारी इससे नाराज हो जाए या फिर वो असहज महसूस करने लगे तो यह अधीनस्थ अधिकारी-कर्मचारी पर भारी पड़ सकता है. यहां तक कि नोटिस भी मिल सकता है. कुछ ऐसा ही हुआ है अजमेर में एक अधीनस्थ अधिकारी के साथ.

सामाजिक न्याय और अधिकारिता विभाग से जुड़ा है मामला
अजमेर में एक सरकारी अधिकारी ने अपने अधीनस्थ अधिकारी को कारण बताओ नोटिस थमाया है. उसमें अन्य कारणों के साथ मूंछ पर ताव देने पर भी जवाब मांगा गया है. मामला सामाजिक न्याय और अधिकारिता विभाग से जुड़ा हुआ है. यहां विभाग के उपनिदेशक जयप्रकाश ने श्रीनगर ब्लॉक के सामाजिक सुरक्षा अधिकारी विशाल सोलंकी को नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण मांगा है. हालांकि यह नोटिस कार्य में लापरवाही बरतने को लेकर है जो सरकारी कामकाज का एक नियमित हिस्सा है, लेकिन आश्चर्य इस बात का है कि अधिकारी ने नोटिस जारी कर जिन बिंदुओं पर जवाब मांगा है उसमें से एक अधीनस्थ कर्मचारी की मूंछ से भी जुड़ा है.

उच्चाधिकारियों को इरिटेशन होता है
उपनिदेशक महोदय ने अपने अधीनस्थ अधिकारी को दिए नोटिस में कहा है कि सरकारी बैठकों में सामाजिक सुरक्षा अधिकारी विशाल अपनी मूंछों पर ताव देते हुए पाए जाते हैं. इसको लेकर उन्हें कई बार मना भी किया गया है, लेकिन वो मान नहीं रहे हैं. उनके इस कृत्य से उच्चाधिकारियों को इरिटेशन होता है. हालांकि जब उपनिदेशक जयप्रकाश से इस बारे में बात करनी चाही तो उन्होंने कुछ भी कहने से इनकार कर दिया. वहीं नोटिस मिलने के बाद विशाल सोलंकी ने कहा कि वह नियमानुसार इसका जवाब देंगे.



भारी पड़ सकता है मूछों पर ताव
सोलंकी को दिया गया नोटिस।


यह भी पढ़ें- जसोल हादसा: सरकार को सौंपी लापरवाहियों की जांच रिपोर्ट

जोधपुर में 1 करोड़ रुपए की स्मैक और अवैध हथियार बरामद
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज