Home /News /rajasthan /

oldest couple passed away in span of just 5 hours after 80 years of marriage strange coincidence in ajmer omg rjsr

पति का शव देख पत्नी ने भी छोड़ी दुनिया, एक ही चिता पर किया गया अंतिम संस्कार

ग्रामीण बताते हैं कि दोनों ने अपना जीवन सादगी से गुजारा. दोनों खेती-बाड़ी के काम मिलजुल कर करते थे.

ग्रामीण बताते हैं कि दोनों ने अपना जीवन सादगी से गुजारा. दोनों खेती-बाड़ी के काम मिलजुल कर करते थे.

Husband and Wife died on Same Day in Ajmer: राजस्थान के अजमेर जिले के श्रीनगर कस्बे के कालेड़ी गांव में 105 साल के बुजुर्ग पति भैंरू सिंह रावत और उनकी 101 साल की पत्नी हीरा देवी ने एक ही दिन प्राण त्यागे. यह जोड़ा अपनी शादी के बाद 80 साल तक साथ रहा. दोनों का एक दूसरे के प्रति लगाव इतना गहरा था कि तीन दिन पहले महज पांच घंटे के अंतराल में दोनों ने दुनिया छोड़ी. पहले पति की मौत हुई. पति भैंरू सिंह की मौत का सदमा हीरादेवी बर्दाश्त नहीं कर पाई और महज पांच घंटे बाद ही दुनिया को अलविदा कह दिया. अंतिम यात्रा गाजे बाजे के साथ शुरू हुई. दोनों की बैकुंठी निकाली गई. बैकुंठी को माला और गुब्बारों से सजाया गया. 70 वर्षीय पुत्र शंकर ने माता-पिता को एक ही चिता पर मुखाग्नि दी.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

दोनों का एक ही चिता पर किया गया अंतिम संस्कार
ग्रामीणों ने इस दंपति को अटूट प्रेम की मिसाल बताया

अजमेर. राजस्थान के अजमेर जिले के श्रीनगर कस्बे के कालेड़ी गांव में. यहां 105 साल के बुजुर्ग पति और उनकी 101 साल की पत्नी का जोड़ा मिसाल बन गया. यह जोड़ा अपनी शादी के बाद 80 साल तक साथ रहा. दोनों का एक दूसरे के प्रति लगाव इतना गहरा था कि तीन दिन पहले महज पांच घंटे के अंतराल में दोनों का निधन हो गया. पहले पति ने दुनिया छोड़ी तो पत्नी ने भी पांच घंटे बाद ही प्राण त्याग दिए . दोनों का एक ही चिता पर अंतिम संस्कार किया गया.

श्रीनगर कस्बे के कोलड़ी गांव का यह जोड़ा पहले भी चर्चा का विषय रहा था और निधन के बाद भी सुर्खियों में है. भैंरू सिंह रावत और उनकी पत्नी हीरादेवी की शादी 80 साल पहले हुई थी. दोनों में एक दूसरे के प्रति गहरा लगाव थे. यह जोड़ा अपने 70 वर्षीय पुत्र शंकर के साथ रहता था.

तीन दिन पहले पांच घंटे के अंतराल में त्यागे प्राण

ग्रामीण बताते हैं कि दोनों ने अपना जीवन सादगी से जिया. दोनों खेती-बाड़ी के काम मिलजुल कर करते थे. भैंरू सिंह खेती-बाड़ी के काम के बाद गांव में ही परचून की दुकान करने लगे थे. 6 साल पहले भैंरू सिंह को लकवा आ गया था. गुरुवार को शाम 4 बजे अचानक भैंरू सिंह का निधन हो गया. पत्नी हीरादेवी पति की मौत का सदमा बर्दाश्त नहीं कर पाई और वे गुमशुम हो गईं. पति भैंरू सिंह के निधन के महज पांच घंटे बाद ही हीरादेवी ने भी दुनिया को अलविदा कह दिया.

दंपति की गाजे बाजे के साथ बैकुंठी निकाली गई

उनके निधन के अगले दिन शुक्रवार को दोनों का एक ही चिता पर अंतिम संस्कार किया गया. इससे पहले कालड़ी गांव में दोनों की अंतिम यात्रा गाजे बाजे के साथ शुरू हुई. दोनों की बैकुंठी निकाली गई. बैकुंठी को माला और गुब्बारों से सजाया गया. 70 वर्षीय पुत्र शंकर ने माता-पिता को एक ही चिता पर मुखाग्नि दी.

दोनों को एक चिता पर देखकर ग्रामीणों की आंखें नम

दोनों का एक ही चिता पर अंतिम संस्कार देखकर शमशान पहुंचे लोगों की आंखें नम हो गई. ग्रामीणों ने उनके घर पहुंचकर दोनों को श्रद्धा सुमन अर्पित कर श्रद्धांजलि दी. ग्रामीणों ने इसे अटूट प्रेम की मिसाल बताया है. अंतिम यात्रा में कलेड़ी और नाथा खेड़ा सहित आसपास के गांव के ग्रामीण मौजूद रहे. बुजुर्ग दंपति का एक ही दिन देहांत होना क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ है.

Tags: Ajmer news, OMG News, Rajasthan latest news, Rajasthan news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर