कॉलेज की परीक्षाएं रद्द करने पर विपक्ष ने साधा सरकार पर निशाना, पूछा- ..तो उनका क्या कसूर था?
Ajmer News in Hindi

कॉलेज की परीक्षाएं रद्द करने पर विपक्ष ने साधा सरकार पर निशाना, पूछा- ..तो उनका क्या कसूर था?
राजस्थान में कॉलेज की परीक्षाएं रद्द कर दी गईं हैं. सांकेतिक फोटो.

कॉलेज और यूनिवर्सिटी की परीक्षाएं (Exam) रद्द करने के राजस्थान सरकार (Government of Rajasthan) के फैसले पर सवाल उठने लगे हैं.

  • Share this:
अजमेर. कॉलेज और यूनिवर्सिटी की परीक्षाएं (Exam) रद्द करने के राजस्थान सरकार (Government of Rajasthan) के फैसले पर सवाल उठने लगे हैं. अजमेर उत्तर विधायक और पूर्व शिक्षा राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी ने राज्य सरकार पर दोहरे मापदंड का आरोप लगाते हुए सवाल खड़ा किया है. पूर्व मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षायें करवाते वक्त कोरोना संक्रमण के फैलने की चिंता नहीं की, लेकिन अब कॉलेज और यूनिवर्सिटी के एग्जाम करवाते वक्त उन्हें कोरोना का खतरा याद आ रहा है. सरकार कॉलेज और यूनिवर्सिटी की परीक्षाओं को रद्द कर अपना संवेदनशील कदम बता रही है.

राजस्थान पूरे देश मे बोर्ड परीक्षाओं का आयोजन करने वाला इकलौता राज्य है जहाँ 10वी और 12वी की बोर्ड परीक्षाओं को पूरी कामयाबी के साथ संपन्न करवा लिया गया है. लेकिन पिछले दिनों सरकार ने कोरोना संक्रमण का हवाला देते हुए कॉलेज और यूनिवर्सिटी के एग्जाम रद्द करने का फैसला लिया है. सरकार ने अपने इस फैसले को एक बेहद संवेदनशील कदम करार दिया है.
ये भी पढ़ें: गैंगस्टर विकास दुबे की भांजी बोली- मेरे मामा को ऐसी मौत मिले जो मिसाल बने!

इनको खतरे में डाल दिया
विधायक देवनानी ने कहा कि सरकार ने अस्पष्ट और अदूरदर्शी सोच के चलते 10वीं और 12वीं के विद्यार्थियों के स्वस्थ को खतरे में डाल कर बोर्ड परीक्षाओं का आयोजन किया. जबकि इन बोर्ड परीक्षार्थियों की उम्र कॉलेज के विद्यार्थियों से काफी कम होती है. कई विद्यार्थियों को तो अपने एग्जाम की खातिर एक गांव से दूसरे गांव में स्थित एग्जामिनेशन सेंटर तक भी जाना पड़ा था. अगर सरकार उस समय ये संवेदनशील फैसला लेती और 10वीं व 12वीं के विद्यार्थियों को भी बिना परीक्षा के अगली क्लास में प्रमोट कर देती तो सरकार का कदम सराहनीय होता.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading