• Home
  • »
  • News
  • »
  • rajasthan
  • »
  • 'थिंक पॉजिटिव' का संदेश दे रही अजमेर की साफिया खान, बना चुकीं हैं वर्ल्ड रिकॉर्ड

'थिंक पॉजिटिव' का संदेश दे रही अजमेर की साफिया खान, बना चुकीं हैं वर्ल्ड रिकॉर्ड

महज 87 दिन में कश्मीर से कन्याकुमारी तक 4035 किलोमीटर दौड़ने वाली सफिया खान ने गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड बना चुकी हैं.

महज 87 दिन में कश्मीर से कन्याकुमारी तक 4035 किलोमीटर दौड़ने वाली सफिया खान ने गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड बना चुकी हैं.

जोश और जुनून के दम पर महज 87 दिन में कश्मीर से कन्याकुमारी तक 4035 किलोमीटर दौड़ने वाली सफिया खान ने गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड (Guinness World Records) बनाने के बाद अब बेटियों को थिंक पॉजिटिव का संदेश दे रही हैं.

  • Share this:
अजमेर. राष्ट्रीय बालिका दिवस (National Girl Child Day) भारत में हर साल 24 जनवरी को मनाया जाता है. इसी क्रम में राजस्थान (Rajasthan) के अजमेर (Ajmer) जिले की एक होनहार बेटी लोगों को पॉजिटिविटी का संदेश दे रही है. अपने जोश और जुनून के दम पर महज 87 दिन में कश्मीर से कन्याकुमारी तक 4035 किलोमीटर दौड़ने वाली सफिया खान ने गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड (Guinness World Records) बनाकर भारत का नाम रोशन किया है.

बेटियों को 'थिंक पॉजिटिव' का दे रहीं संदेश 

बता दें कि सफिया खान को ये टारगेट 100 दिन में पूरा करना था, लेकिन उसने वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाते हुए महज 87 दिन में ही इसे पूरा कर दिखाया. इसके बाद अब साफिया देश की बेटियों को 'थिंक पॉजिटिव' का संदेश दे रही हैं. अपनी दौड़ के जरिए साफिया देश में बदलाव लाने की कोशिश कर रही हैं. दौड़ से इंसानियत, भाईचारे को बढ़ावा दे रही हैं.

इंटरनेशनल लेवल पर रिकॉर्ड बनाने की तैयारी

अजमेर की 33 साल की अल्ट्रा रनर सफिया खान अब इस जुनून के साथ इंटरनेशनल लेवल पर भी रिकॉर्ड बनाने की तैयारी में हैं. बता दें कि 24 जनवरी वर्ष 2008 से भारत सरकार के महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने 'नेशनल गर्ल चाइल्ड डे' मनाने की शुरुआत की थी. इस दौरान समाज में बेटियों के साथ हो रहे भेदभावों के खिलाफ एक अभियान के तौर पर राष्ट्रीय बालिका दिवस की पहल की गई थी.

आगे बढ़ रहीं महिलाएं 

बहरहाल, एक तरफ आज हमारे देश में जहां महिलाओं को देवियों का दर्जा दिया जाता है. वहीं कहीं न कहीं लड़कियों के साथ भेदभाव और मूलभूत अधिकारों से वंचित भी रखा जाता रहा है. चाहे वो शिक्षा का अधिकार हो या फिर सुरक्षा या सम्मान. हालांकि मौजूदा समय में हालात और लोगों की सोच बदली है. आज बेटियां और महिलाएं हर क्षेत्र में पुरुषों के कदम से कदम मिलाकर आगे बढ़ रही हैं.

ये भी पढ़ें:- JLF2020 में शशि थरूर, जयराम रामेश, शोभा डे की बात,पढ़ें-जयपुर में और क्या खास?

ये भी पढ़ें:- विधानसभा: CAA के खिलाफ लाए जा रहे प्रस्ताव का आरएलपी करेगी विरोध

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज