Home /News /rajasthan /

राजस्थान की सरकारी स्कूलों में "ताला लगाओ, मांगे मनवाओ" की नीति

राजस्थान की सरकारी स्कूलों में "ताला लगाओ, मांगे मनवाओ" की नीति

नागौर के तांतवास में राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय के छात्रों शिक्षकों की कमी से नाराज होकर स्कूल पर ताला जड़ दिया.

नागौर के तांतवास में राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय के छात्रों शिक्षकों की कमी से नाराज होकर स्कूल पर ताला जड़ दिया.

नागौर के तांतवास में राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय के छात्रों शिक्षकों की कमी से नाराज होकर स्कूल पर ताला जड़ दिया.

    नागौर के तांतवास में राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय के छात्रों शिक्षकों की कमी से नाराज होकर स्कूल पर ताला जड़ दिया.

    राजस्थान के सरकारी स्कूलों में इन दिनों एक नया प्रवृति छाई हुई है. ये प्रवृति है "ताला लगाओ, मांगे मनवाओ". आए दिन स्कूल में अपनी मांगे मनवाने के लिए स्टूडेंट्स स्कूल्स पर ताला जड़कर अपना विरोध जता रहे हैं.

    ताजा मामला नागौर के तांतवास का है जहां के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय के स्टूडेंट्स ने बुधवार सुबह स्कूल खुलने के कुछ घंटों बाद मुख्य द्वार पर ताला जड़ दिया. इसके बाद सभी स्टूडेंट्स ने स्कूल के बाहर प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की.

    स्टूडेंट्स का गुस्सा यहीं शांत नही हुआ उन्होने नोखा-फलौदी राजमार्ग जाम कर दिया. स्टूडेंट्स ने सड़क पर पत्थर डालकर प्रदर्शन किया. स्टूडेंट्स के इस विरोध प्रदर्शन में ग्रामीण भी उनका साथ दे रहे है. स्टूडेंट्स के साथ ही ग्रामीण भी राजमार्ग पर जमावड़ा लगाए बैठे है. सूचना के बाद पांचौड़ी थाना पुलिस मौके पर पहुंच चुकी है और स्टूडेंट्स को समझाकर राजमार्ग खुलवाने का प्रयास कर रही है.

    300 स्टूडेंट्स पर 1 टीचर-
    तांतवास के इस राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में 300 स्टूडेंट्स पर मात्र एक टीचर है. इस लिहाज से स्टूडेंट्स की पढ़ाई लगातार बाधित हो रही है. कई बार स्टूडेंट्स व ग्रामीणों द्वारा स्कूल में टीचर्स की संख्या बढ़ाए जाने की मांग मौखिक व लिखित रुप में की जा चुकी है बावजूद प्रशासन का इस ओर कोई ध्यान नही है. थक हारकर अतत: आंदोलन का रास्ता अपनाना पड़ा.

    Tags: नागौर

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर