Ajmer: रिश्वत के मामले में MDS यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रो. आरपी सिंह निलंबित, कोर्ट ने 24 सितंबर तक भेजा जेल
Ajmer News in Hindi

Ajmer: रिश्वत के मामले में MDS यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रो. आरपी सिंह निलंबित, कोर्ट ने 24 सितंबर तक भेजा जेल
एसीबी ने एमडीएस यूनिवर्सिटी स्थित एसबीआई बैंक में कुलपति के सैलरी एकाउंट को सीज कर दिया है.

रिश्वत (Bribe) लेने के मामले में गिरफ्तार किये गये एमडीएस यूनिवर्सिटी अजमेर के कुलपति प्रो. रामपाल सिंह (Pro. Rampal Singh) को राज्यपाल ने निलंबित कर दिया है. कोर्ट ने प्रो. सिंह को जेल (Jail) भेज दिया है.

  • Share this:
अजमेर. अपने दलाल के जरिये रिश्वत (Bribe) लेने के मामले में एसीबी की गिरफ्त में आये महर्षि दयानंद सरस्वती विश्वविद्यालय अजमेर के कुलपति प्रो. रामपाल सिंह (Pro. Rampal Singh) की मुश्किलें बढ़ती ही जा रही हैं. गुरुवार देर शाम राजभवन ने उन्हें निलंबित (Suspended) करने का फरमान जारी कर दिया. राज्यपाल कलराज मिश्र ने सरकार से परामर्श के बाद भ्रष्टाचार के मामले में प्रो. आरपी सिंह को निलंबित कर दिया है.

एसीबी ने 7 सितंबर की दोपहर कुलपति आवास पर छापा मारते हुए उनके निजी गार्ड रणजीत को 2 लाख 20 हजार कि रिश्वत लेते पकड़ा था. रणजीत ने रिश्वत की यह रकम नागौर जिले के एक निजी कॉलेज के प्रतिनिधि महिपाल से उसके कॉलेज में परीक्षा केंद्र बनाने और सीटें बढ़ाने की एवज में लिए थे. इस मामले में एसीबी ने कुलपति सहित दलाल रणजीत और कॉलेज प्रतिनिधि महिपाल को गिरफ्तार किया था.

Rajasthan: पायलट कैम्प के 3 विधायकों ने बंद लिफाफे में सौंपे अजय माकन को सुझाव, अटकलबाजी शुरू



दलाल रणजीत को 14 सितंबर तक दुबारा एसीबी के रिमांड पर
राजभवन से कुलपति के निलंबन आदेश आने से पहले गुरुवार शाम 5 बजे एसीबी ने तीनों आरोपियों की रिमांड अवधि पूरी होने के बाद उन्हें फिर एसीबी कोर्ट में पेश किया. वहां से कोर्ट ने कुलपति सिंह और महिपाल को 24 सितंबर तक के लिए जेल भेजने के आदेश दिए तो वहीं दलाल रणजीत को 14 सितंबर तक दुबारा एसीबी को रिमांड पर सौंपा है. इससे पहले गुरुवार सुबह एसीबी की टीम यूनिवर्सिटी पहुंची और कैम्पस में स्थित एसबीआई बैंक में कुलपति के सैलरी एकाउंट को सीज किया.

कुलपति का बैंक एकाउंट सीज, 19 लाख की तीन एफडीआर मिली
पड़ताल के दौरान एसीबी को कुलपति की तीन एफडीआर भी मिली है जिनकी कुल राशि 19 लाख बताई जा रही है. इसके अलावा दलाल रणजीत के भी चार बैंक खाते सामने आए हैं जो एचडीएफसी, पीएनबी और एसबीआई में है. एसीबी ने उन खातों को भी सीज करते हुए जांच शुरू कर दी है. एसीबी के उपाधीक्षक पारसमल ने बताया कि ब्यूरो इस पूरे मामले की गहराई से पड़ताल कर रही है और अब तक कुल 9 लोगों को इस मुकदमे में नामजद कर लिया है. इनमें से 3 गिरफ्तार है. बाकी 6 लोगों में एमडीएस यूनिवर्सिटी के कनिष्ठ सहायक रवि जोशी का भी नाम है. वहीं राजेन्द्र, मुकुल, अविनाश जैन, मनीष सेठी और सुरेश भाकर के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज है. ये सभी निजी कॉलेजों के संचालक हैं और सर्विलांस के दौरान इन सभी की लेनदेन की जानकारी मिली थी.

Rajasthan: BJP की बागी नेता पूर्व मंत्री ऊषा पूनिया और सुरेंद्र गोयल की घर वापसी की सुगबुगाहट तेज

अगले कुछ दिनों में इस मामले में कुछ और गिरफ्तारियां हो सकती है
ब्यूरो की जांच टीम अब इस पूरे मामले की 'मास्टर की' दलाल रणजीत से अगले चार दिन की रिमांड अवधि में इस गोरखधंधे में जुड़े और लोगों के बारे में भी पड़ताल करेगी. इसके साथ ही वित्तीय लेनदेन के रिकॉर्ड को भी खंगाला जाएगा. ब्यूरो अगले कुछ दिनों में इस मामले में कुछ और गिरफ्तारियां भी कर सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज