Home /News /rajasthan /

55 साल की 'लुटेरी दुल्हन', शादी के आठ दिन बाद ही 4 लाख के जेवर-नकदी लेकर फरार

55 साल की 'लुटेरी दुल्हन', शादी के आठ दिन बाद ही 4 लाख के जेवर-नकदी लेकर फरार

37 साल के युवक से 8 लाख रुपए लेकर करवाई थी शादी

37 साल के युवक से 8 लाख रुपए लेकर करवाई थी शादी

Alwar News: राजस्थान में अभी तक लुटेरी दुल्हनों का फर्जीवाड़ा मारवाड़ और गंगानगर इलाके में ज्यादा देखने को मिलता था, लेकिन अब अलवर में भी ऐसा ही मामला सामने आया है. बिचौलिए ने न सिर्फ शादीशुदा महिला से युवक की शादी कराई. बल्कि वह शादी के आठ दिन बाद ही साढ़े चार लाख का सामान लेकर चंपत हो गई.

अधिक पढ़ें ...

    अलवर. ‘लुटेरी दुल्हन’ (Robber bride) का फर्जीवाड़ा अब अलवर जिले में भी देखने में आया है. बिचौलियो ने स्टॉम्प पर एग्रीमेंट (Agreement on stamp) कर भरतुपर के डीग के निकट पानेरी की एक 55 साल की महिला गीता से कानियावास गांव के 37 साल के युवक से शादी (marriage) करा दी. जो शादी के 8 दिन बाद ही भाग गई. 15 जून 2020 को शादी हुई थी. 23 जून 2020 को पीहर जाने की कहकर वह फरार (absconded) हो गई.

    फर्जी शादी का मामला अलवर जिले के टहला के कानियावास गांव का है. फरार दुल्हन अपने साथ में 4 लाख के जेवर और 50 हजार रुपए नकदी भी ले गई. इससे पहले युवक ने शादी के लिए 8 लाख रुपए दिए थे. एक साल पुराने इस मामले का खुलासा 2 बिचौलियों के गिरफ्तार होने के बाद हुआ.
    इस मामले को टहला के कानयाबास निवासी जमींदार रामावतार पुत्र जगदेव ने दर्ज कराया था. रिपोर्ट में बताया कि श्रीया उर्फ श्रीराम पुत्र रामसहाय गुर्जर निवासी बाकाला थानागाजी की उनके गांव कानियाबास में जान-पहचान है. उसे पता था कि परिवादी की शादी नहीं हुई है. वह शादी करने का इच्छुक है. इसलिए उसने सहयोगी निहाल सिंह निवासी कुशालगढ़ मालाखेड़ा व गीता देवी पत्नी नत्थूराम गुर्जश्र निवासी पानेरी डीग भरतपुर ने मिलकर षड़यंत्र रच लिया. दोनों ने शादी के लिए गीता देवी को तैयार कर लिया. फिर परिवादी रामावतार के पास पहुंच गए. 7 जून 2020 को परिवादी ने श्रीराम व निहाल सिंह को 8 लाख रुपए दे दिए.

    राजस्थान का एकमात्र मंदिर जहां एक ही दिन में 3 रूपों में होते हैं देवी मां के दर्शन

    दिखावे के लिए स्टाम्प पर हुआ शादी का करार
    इसके बाद श्रीराम, निहाल व गीता देवी के अलावा दो-तीन अन्य लोग परिवादी को तहसील लेकर गए. वहां दिखावे के लिए स्टॉम्प पर पर दोनों की शादी होने का करार किया गया. फिर उसी दिन गीता परिवादी के साथ दुल्हन बन कर कानियाबास टहला आ गई. 8 दिन रहने के बाद 23 जून 2020 को श्रीराम व निहाल सिंह उसे लेने आ गए. बोले – ये कुछ दिन अपने पीहर जाएगी. वह घर के जेवर व 50 हजार रुपए लेकर पीहर चली गई. इसके बाद कई दिन नहीं आई.

    केस दर्ज होने के एक साल बाद हुआ खुलासा
    परिवादी डीग पानेरी पत्नी को लेने गया. लेकिन उसने आने से मना कर दिया. इसके बाद बिचौलियों ने कहा कि वे न पैसा दे सकते न कोई मदद कर सकते हैं. तब परिवादी ने टहला थाने में रिपोर्ट दी कि शादी के नाम पर उसके साथ ठगी की गई है. पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया. आखिर एक साल 3 महीने बाद पुलिस ने मामले में बुधवार दो बिचौलियों को गिरफ्तार किया है. इसके बाद पूरा मामला सामने आया.

    पुलिस ने दबिश देकर दो को गिरफ्तार किया
    पुलिस ने इस मामले में अब तक निहाल पुत्र कन्हैया निवासी बंजारों की ढाणी बेरेबास नारायणपुर व नत्थी सिंह पुत्र अमर सिंह निवासी पानेरी डीग भरतपुर को गिरफ्तार किया है. अन्य आरोपियों की तलाश जारी है. जिसके लिए पुलिस बराबर दबिश देने में लगी है.

    Tags: Alwar News, Rajasthan news, Rajasthan news in hindi

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर