होम /न्यूज /राजस्थान /

Alwar Mob Lynching Case: दलित समाज का धरना समाप्त, तीन दिन बाद पोस्टमार्टम का रास्ता साफ

Alwar Mob Lynching Case: दलित समाज का धरना समाप्त, तीन दिन बाद पोस्टमार्टम का रास्ता साफ

टपूकड़ा सीएचसी पर चल रहा धरना रविवार को समाप्त कर दिया गया। फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।

टपूकड़ा सीएचसी पर चल रहा धरना रविवार को समाप्त कर दिया गया। फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।

अलवर जिले (Alwar) में मॉब लिंचिंग में मारे गए हरीश जाटव (Harish Jatav Lynching Case) के पिता रत्तीराम जाटव की आत्महत्या (Suicide) के बाद पैदा हआ गतिरोध (deadlock) रविवार को तीसरे दिन समाप्त हो गया है.

    अलवर जिले (Alwar) में मॉब लिंचिंग में मारे गए हरीश जाटव (Harish Jatav Lynching Case) के पिता रत्तीराम जाटव की आत्महत्या (Suicide) के बाद पैदा हआ गतिरोध (deadlock) रविवार को तीसरे दिन समाप्त हो गया है. जिला कलेक्टर ने संघर्ष समिति को दरकिनार कर सीएम अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) के आश्वासन को पीड़ित परिवार तक पहुंचाया. उसके बाद बिना किसी लिखित मांगों को माने ही धरना समाप्त करवा दिया गया है. अब रत्तीराम जाटव के शव के पोस्टमार्टम की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है.

    प्रशासन ने कोई लिखित समझौता नहीं किया
    जिला कलेक्टर इंद्रजीत सिंह ने बताया कि पीड़ित पक्ष की किसी भी मांग को नहीं माना गया है. लेकिन, सरकार तक उनकी मांग को पहुंचाने और मामले की उच्चस्तरीय जांच का आश्वसन दिया गया है. प्रशासन ने कोई लिखित समझौता नहीं किया है. पांच मांगों में से एक भी मांग को पूरा करने का आश्वासन नहीं दिया गया है. जांच कितने दिन में पूरी होगी इसके लिए कोई समय सीमा तय नहीं की गई है. उन्होंने कहा कि प्रशासन पीड़ित परिवार को निजी कंपनी में नौकरी और सामाजिक संबल देने के लिए अपने स्तर पर सहयोग करेगा.

    बसपा विधायक संदीप यादव बोले बीजेपी कर रही थी राजनीति
    गतिरोध टूटने के बाद बसपा विधायक संदीप यादव ने कहा प्रशासन और सरकार पीड़ित परिवार के साथ है. उन्हें न्याय दिलाया जाएगा. बीजेपी ने इस मामले में राजनीति कर माहौल को बिगाड़ने की कोशिश की है. वहीं बीजेपी नेता रामकिशन मेघवाल ने कहा जिला कलेक्टर ने पीड़ित परिवार से समझौता किया है. एक सप्ताह में मांग पूरी करने की बात की है, लेकिन अंतिम वार्ता कलेक्टर ने पीड़ित परिजनों से सीधी की है.

    यह था मामला
    उल्लेखनीय है कि टपूकड़ा इलाके के झीवाना गांव निवासी रत्तीराम जाटव ने बेटे हरीश की मॉब लीचिंग में मौत हो गई थी. इसके बाद मामले में न्याय नहीं मिलने और पुलिस की कार्यशैली से परेशान होकर गत गुरुवार को रत्‍तीराम ने सुसाइड कर लिया था. इस पर पीड़ित परिवार और दलित समाज के लोग अपनी मांगों को लेकर टपूकड़ा सीएचसी पर धरना दे रहे थे. उनके इस धरने में बीजेपी के विधायक और नेता भी साथ थे.

    मॉब लिंचिंग: ‘घर-जमीन सब बिक जाए लेकिन न्याय लेकर रहेंगे'

    पति से परेशान थी पत्नी, एक लाख की सुपारी देकर मरवा डाला

    Tags: Ashok gehlot, Mob lynching, Rajasthan news, अलवर

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर