अलवर लिंचिंग केस: पहले से घात लगाकर बैठे थे आरोपी, चार्जशीट में हुआ खुलासा

अलवर जिले के रामगढ़ थाना इलाके के ललावंडी गांव में 21 जुलाई को हुई रकबर खान उर्फ अकबर खान की मौत के मामले में पुलिस ने अपनी जांच में माना है कि आरोपी घटनास्थल पर पहले से घात लगाकर बैठे थे.

Rajendra Prasad Sharma | News18 Rajasthan
Updated: September 8, 2018, 2:19 PM IST
अलवर लिंचिंग केस: पहले से घात लगाकर बैठे थे आरोपी, चार्जशीट में हुआ खुलासा
सांकेतिक चित्र
Rajendra Prasad Sharma | News18 Rajasthan
Updated: September 8, 2018, 2:19 PM IST
अलवर जिले के रामगढ़ थाना इलाके के ललावंडी गांव में 21 जुलाई को हुई रकबर खान उर्फ अकबर खान की मौत के मामले में पुलिस ने अपनी जांच में माना है कि आरोपी घटनास्थल पर पहले से घात लगाकर बैठे थे. जैसे ही रकबर अपने साथी असलम के साथ वहां से गुजरा तो आरोपियों ने उन पर हमला कर दिया.

अलवर मॉब लिंचिंग मामले में पुलिस की ओर से शुक्रवार को न्यायालय में पेश की गई चार्जशीट में पुलिस ने बताया है कि 20 जुलाई की रात को आरोपी ललावंडी निवासी धर्मेन्द्र कुमार यादव, परमजीत सिंह, नरेश कुमार और विजय शर्मा योजनाबद्ध तरीके से धर्मेन्द्र यादव के खेत में गए. वे वहां से गुजरने वाले गोतस्करों के पकड़ने के लिए खेत में बैठ गए. इस दौरान रकबर उर्फ अकबर और उसका साथी असलम मेव दो गायों को लेकर अपने गांव की तरफ जा रहे थे. जैसे ही वे खेत में पहुंचे तो वहां पहले से बैठे हुए धर्मेन्द्र व उसके साथियों ने उनको पकड़ लिया. इस दौरान असलम किसी तरह से खुद को छुड़ाकर भाग गया और रकबर वहीं रह गया, जिसकी उन्होंने पिटाई कर डाली.

यह भी पढे़ं: अलवर लिंचिंग केसः चार्जशीट दाखिल, VHP कार्यकर्ता समेत 3 पर रकबर की हत्या का आरोप 

VIDEO- राजस्थान में फिर पहलू खान जैसा हत्याकांड, गोतस्करी के शक में युवक की पीट-पीट कर हत्या

पुलिस ने इस मामले में धर्मेन्द्र, परमजीत और नरेश कुमार को गिरफ्तार किया था, जबकि विजय फरार है. पुलिस ने पकड़े गए तीनों आरोपियों को अकबर खान की मौत के लिए जिम्मेदार मानते हुए इनके खिलाफ चालान पेश किया है.

यह भी पढे़ं: मॉब लिंचिंग: देशभर में बदनाम हुआ अलवर, सवा साल में चौथा मामला

आखिर क्यों अलवर बन गया मॉब लिंचिंग का गढ़?

 
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर