होम /न्यूज /राजस्थान /Alwar News : एंबुलेंस ड्राइवरों के हीरो हैं अलवर के छगनलाल, कोरोनाकाल में दिखाया था इंसानियत का जज्बा

Alwar News : एंबुलेंस ड्राइवरों के हीरो हैं अलवर के छगनलाल, कोरोनाकाल में दिखाया था इंसानियत का जज्बा

X
ambulance

ambulance driver chhagan 

अलवर के एक एंबुलेंस ड्राइवर छगन ने जान की प​रवाह न करते हुए कोरोना से मरे लोगों की डेड बॉडी को उनके घरों तक पहुंचाया था ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- पीयूष पाठक

अलवर.  कोरोना महामारी ने लगातार दो वर्षों तक पूरे देश को हिला कर रख दिया था. अलवर शहर में जब कोरोना वायरस के समय लोग घरों में बंद थे. तब भी अलवर के एक एंबुलेंस ड्राइवर छगन ने जान की प​रवाह न करते हुए कोरोना से मरे लोगों की डेड बॉडी को उनके घरों तक पहुंचाया था. उस समय कई बार तो लोगों ने अपनों की लाशें भी लेने से मना कर दिया था. वैसे तो अलवर जिले में 100 से ज्यादा एंबुलेंस हैं. लेकिन, जब कोरोना वायरस का खतरा बढ़ा और लोग अपनी जान गंवाने लगे तब एंबुलेंस वाले भी पहले तो डेड बॉडी को ले जाने से डरने लगे थे. लेकिन? तब छगन ने सबसे पहले आगे आकर डेड बॉडी ले जाने का काम किया. छगन ने अपनी जान की परवाह ना करते हुए डेड बॉडी को उनके परिजनों तक पहुंचाया.

25 सालों से चला रहे एम्बुलेंस

एंबुलेंस ड्राइवर छगन का कहना है कि वे करीब 25 सालों से एंबुलेंस चला रहे हैं. जो डेड बॉडी को लाने व ले जाने का काम करते हैं. छगन का कहना है कि जब कोई 3 से 4 दिन पुरानी डेड बॉडी नहीं लेकर जा पाता तो वे उन डेड बॉडी को अपनी एंबुलेंस में लेकर जाते हैं. छगन के कहा कि यह मानवता का काम है. छगन ने बताया की कोरोना बीमारी में और ड्राइवर अपनी एंबुलेंस में डेड बॉडी नहीं लेकर जा रहे थे. तब उन्होंने आगे आकर डेड बॉडी को उनके परिजनों तक पहुंचाया. छगन ने बताया कि मुझे आज भी याद है की कोरो नावायरस की पहली डेडबॉडी वे अलवर जिले के धोलागढ़ में छोड़कर आए. जब और ड्राइवरों ने देखा कि छगन को यह काम करते हुए कुछ नहीं हुआ तब और एंबुलेंस ड्राइवरों ने भी यह काम शुरू किया.

छगन का कहना है कि वे 25 सालों से एंबुलेंस हॉस्पिटल में चला रहे हैं और करीब 2 से 3 डेड बॉडी वह रोज हॉस्पिटल लेकर आते हैं व यहां से लेकर जाते हैं. छगन ने बताया कि कोरोना काल में जब मैं पहली बार यहां से डेड बॉडी लेकर गया तो पुलिस के जवान व हॉस्पिटल का नर्सिंग स्टाफ मेरे साथ गया. इससे मुझे साहस मिला. मुझे कुछ नहीं हुआ देखकर और एंबुलेंस वालों ने जाना शुरू किया. अच्छा लगता है कि मुझे देखकर लोग आगे आए और महामारी के समय में अपना कर्तव्य निभाया.

Tags: Alwar News, Rajasthan news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें